किशनगंज : डीएम की अध्यक्षता में आई.सी.डी.एस. के कार्यों की समीक्षात्मक बैठक समाहरणालय सभाकक्ष में आहूत।

breaking News District Adminstration Kishanganj राज्य

किशनगंज/धर्मेन्द्र सिंह, डीएम श्रीकांत शास्त्री की अध्यक्षता में आई.सी.डी.एस. के कार्यों की समीक्षात्मक बैठक समाहरणालय सभा कक्ष में आहूत की गई। बैठक में समेकित बाल विकास परियोजना अंतर्गत क्रियान्वित सभी योजनाओं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना, राष्ट्रीय पोषण अभियान के साथ-साथ आंगनवाड़ी केंद्र स्तर पर संचालित सभी कार्यों की गहन समीक्षा की गई। डीएम द्वारा सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि प्रत्येक आंगनवाड़ी केंद्र में स्कूल पूर्व शिक्षा में सभी पंजीकृत बच्चों की उपस्थिति एवं केंद्र के साफ- सफाई को सुनिश्चित करेंगे। इसमें कोई कोताही को अन्यथा लिया जाएगा।परियोजना अंतर्गत क्रियान्वित कार्य जैसे एमपीआर, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी एवं महिला पर्यवेक्षिका द्वारा केंद्र निरीक्षण, जिला स्तरीय पदाधिकारियों द्वारा आंगनवाड़ी केंद्र निरीक्षण में अनियमितता पर कार्रवाई, भवन निर्माण, केंद्र के लिए भूमि उपलब्धता एवं न्यायालय वाद की स्थिति पर समीक्षा की गई। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना अंतर्गत समीक्षा के क्रम में डीएम द्वारा संतोष व्यक्त किया गया। राज्य स्तर पर किशनगंज जिला पहले स्थान पर है। मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना अंतर्गत सभी परियोजनाओं में पिछले माह की तुलना में प्रगति में संतोष व्यक्त करते हुए निर्देश दिया गया कि मुख्यमंत्री के समाधान यात्रा के दौरान जिला भ्रमण से पहले राज्य स्तर अच्छे स्थान में आना है। राज्य स्तर पर किशनगंज जिला सातवें स्थान पर है। आंगनवाड़ी केंद्र के बच्चों को वित्तीय वर्ष 2021-22 के पोशाक राशि का वितरण में असंतोष व्यक्त करते हुए बाल विकास परियोजना पदाधिकारी टेढ़ागाछ एवं दिघलबैंक को शत प्रतिशत वितरण करने का निर्देश दिया गया। पोषण अभियान अंतर्गत पोषण ट्रैकर डैशबोर्ड में लाभार्थियों के इंट्री की गहन समीक्षा की गई। समीक्षा के क्रम में पाया गया कि पोषण ट्रैकर एप्लिकेशन में सेविकाओं द्वारा सभी योग्य लाभार्थियों का इंट्री आधार सत्यापन के साथ कराने का निर्देश दिया गया। साथ ही सभी आयोजित गतिविधियों को पोषण ट्रैकर एप्लिकेशन में शत प्रतिशत आंकड़ों की प्रविष्टि कराना सुनिश्चित करेंगे।डीएम द्वारा समीक्षोपरांत खेद प्रकट करते हुए सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी एवं महिला पर्यवेक्षिकाओं को अतिगंभीर कुपोषित (SAM) बच्चों के का चयन कर परियोजना एवं सेक्टर स्तर पर कुपोषण दर कम करने हेतु कार्य प्लान बनाने का निर्देश दिया गया है। प्रत्येक सप्ताह में सेविका को एक बार, महिला पर्यवेक्षिका को पंद्रह दिनों में एक बार एवं सभी CDPO को दो माह में एक बार चयनित SAM बच्चों के घर भ्रमण कर बच्चों के अभिभावक को उचित सलाह एवं अनुश्रवण हेतु निर्देशित किया गया। चयनित बच्चों का प्रगति प्रतिवेदन 15 दिनों के अंदर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया। डीएम के द्वारा निर्देश दिया गया कि भूमिहीन एवं किराए पर संचालित आंगनवाड़ी केंद्रों को नजदीकी विद्यालय परिसर में जमीन की उपलब्धता का चयन करना एवं विद्यालय में खाली कमरे में शिफ्ट कराने का कार्य किया जाना है। डीएम द्वारा सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया कि महिला पर्यवेक्षिकाओं के साथ उक्त सभी बिन्दुओं पर बैठक कर गहन समीक्षा करेंगे। बैठक में जिला प्रोग्राम पदाधिकारी, आई.सी.डी.एस. के साथ- साथ बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, किशनगंज, पोठिया तथा ठाकुरगंज एवं सभी महिला पर्यवेक्षिका व जिला समन्वयक, पोषण अभियान, जिला कार्यक्रम समन्वयक, PMMVY, जिला कार्यक्रम सहायक, PMMVY, प्रोग्राम कार्यालय के कर्मी उपस्थित थे।