दीक्षांत समारोह में अनियमितता देखने को मिल रही है एनपीयू प्रशासन छात्र हित को ध्यान में रखकर आयोजन करे – विनीत

breaking News अपराध ताजा खबर प्रमुख खबरें राजनीति

केवल सच – पलामू

मेदनीनगर – अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के द्वारा मेदिनीनगर मंत्री रामा शंकर पासवान की अध्यक्षता में नीलांबर पीतांबर विश्वविद्यालय के कुलपति महोदय को ज्ञापन के माध्यम से दीक्षांत समारोह में हो रही भारी अनियमितता एवं बंदरबांट को लेकर उनका ध्यान आकृष्ट कराया गया। परिषद के कार्यकर्ताओं ने कुलपति महोदय का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा कि आगामी 14 अक्टूबर को आयोजित दीक्षांत समारोह में 69लाख रुपए की राशि खर्च की जानी है। मदवार उस राशि के खर्च को सार्वजनिक किया जाना चाहिए,ताकी कार्यक्रम की पारर्दर्शिता बनी रहे। आगामी 14 अक्टूबर को आयोजित दीक्षांत समारोह के आयोजन हेतु विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा जो कमेटी बनाई गई है उसे भी विश्वविद्यालय प्रशासन सार्वजनिक करें। आगामी दीक्षांत समारोह में एनसीसी और एनएसएस सहित सामान्य विद्यार्थियों की भी सहभागिता इस दीक्षांत समारोह में अवश्य होनी चाहिए। वर्तमान समय में कार्यरत वैसे कर्मचारी एवं अधिकारी जो लगातार लंबे समय से एक ही पद पर विद्यमान है उसका स्थानांतरित विश्वविद्यालय प्रशासन अविलंब सुनिश्चित करे। स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष के छात्रों का रिजल्ट शीघ्र, अति शीघ्र प्रकाशित किया जाए।

मौके पर उपस्थित राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य विनीत पांडे ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा आयोजित दीक्षांत समारोह में भारी अनियमितता देखने को मिल रही है विश्वविद्यालय प्रशासन को चाहिए कि छात्र हित को ध्यान में रखते हुए कम खर्च में यह आयोजन करें एवं छात्रो के अनावश्यक पैसे की बर्बादी ना करें अन्यथा विद्यार्थी परिषद बड़े आंदोलन की तैयारी करेगी।

जिला सोशल मीडिया प्रमुख राजन कश्यप ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा आयोजित दीक्षांत समारोह में बड़ी राशि का टेंट लगाना काफी दुर्भाग्यपूर्ण है । विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों के पैसे का दुरुपयोग कदापि ना करे। मौके पर प्रादेशिक विश्वविद्यालय प्रांत सह प्रमुख आनंद पांडे, जिला संयोजक अभय वर्मा,जिला एस एफ डी प्रमुख सुमित पाठक,प्रकाश पांडे, उत्कर्ष तिवारी,रंजन सिंह,दीपक मिथिलेश दीक्षित ,राजन कुमार सहित दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.