आज पटना पाटलिपुत्र में Littera Public School के द्वारा आयोजित जूनियर रमन साइंस एग्जीबिशन में आयोजित कार्यक्रम में बिहार सरकार के उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ मुख्य अतिथि के रूप में आए समीर कुमार महासेठ में दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया।

Uncategorized

त्रिलोकी नाथ प्रसाद-दीप प्रज्वलित के बाद बच्चों को संबोधित करते हुए उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी।

इस दौरान इस दौरान समीर कुमार महासेठ ने बच्चों को क्विज कंपटीशन में जीते बच्चों को पुरस्कार भेज दिया।
वॉइस समीर कुमार महासेठ ने बच्चों को गुज्जर भावेश की शुभकामनाएं दी

समीर कुमार महासेठ ने अपने संबोधन में कहा बिहार का हर एक बच्चा जब दिमाग बिहार के हर एक बच्चे क्या माइंड बहुत तेज होता है इसलिए बिहार के बच्चे

यूपीएससी है आईआईटी सबसे ज्यादा क्वालीफाई करते हैं बस जरूरत है तू बिहार के बच्चों को बचपन में ही सही गाइडेंस किए अगर सही से गाइडेंस मिला तो बिहार के बच्चे आगे बढ़ेंगे।

समीर कुमार महासेठ ने कहा कि उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ ने कहा कि इस दौरान समीर कुमार महासेठ में अपने उद्योग मंत्रालय का उपलब्धि गिनाते हुए कहा कि जब से मैं उद्योग मंत्री बना हूं तब से लगातार छोटे और बड़े उद्योगपतियों के साथ मीटिंग कर रहा हूं जिससे ज्यादा से ज्यादा बिहार में उद्योग लगे और लोगों को रोजगार के लिए अदर स्टेट जाने की जरूरत नहीं रहे।

उद्योग मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत बिहार में 16,000 लोगों को मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत जोड़ा गया था जिससे यह 16000 लोग अपने अपने जिले में उद्योग लगाएंगे जिससे कई लोगों को रोजगार देने का काम करें , हमारी सरकार ने महिलाओं को हमारी सरकार महिलाओं को मुख्यमंत्री उद्यमी योजनाओं की योजनाएं के तहत 1000000 में 500000 सब्सिडरी और 500000 विदाउट एनी इंटरेस्ट पर देने का काम किया जिससे महिलाएं भी उद्यमी बन सकती है साथी ही और भी महिलाओं को अपने व्यवसाय में जोड़ कर नौकरी दे सकती हैं

समीर कुमार महासेठ ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी और श्री माननीय उपमुख्यमंत्री श्री तेजस्वी यादव जी ने जो रोजगार देने का वादा किया है उसको पूरा करने में उद्योग विभाग अपने लगातार प्रयास कर रही है ,अभी 1 दिसंबर से मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का ऑनलाइन फॉर्म फिर से भरा जा रहा है जिसमें लॉटरी सिस्टम के अनुसार 4000 लोगों को मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत फिर से जोड़ा जाएगा और यह ₹4000 में कई हजार लोगों को रोजगार देने का काम कर सकते हैं।