डीएम ने की मद्यनिषेध एवं उत्पाद मामलों की समीक्षा।।…

breaking News राज्य

त्रिलोकी नाथ प्रसाद-तीन माह से अधिक लंबित उत्पाद अधिहरण वादों को प्राथमिकता के आधार पर निष्पादित करने का डीएम ने दिया निदेश

समाहर्त्ता-सह-जिला दण्डाधिकारी, पटना डॉ. चन्द्रशेखर सिंह ने आज समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में मद्यनिषेध एवं उत्पाद मामलों की समीक्षा की। उन्होंने जिला के विभिन्न न्यायालयों में उत्पाद अधिहरण वादों से संबंधित अद्यतन स्थिति का जायजा लिया। साथ ही शराबबंदी अभियान के तहत नीलाम किये गये वाहनों, राज्यसात से संबंधित प्रतिवेदन, अभियोग/जप्त शराब की विवरणी तथा विनष्टीकरण से संबंधित अद्यतन प्रतिवेदन की समीक्षा की।

समीक्षा में यह पाया गया कि जिला के विभिन्न न्यायालयों में 4,110 प्रस्तावित उत्पाद अधिहरण वादों के विरूद्ध 3,356 वादों को निष्पादित किया गया है जो प्रस्तावित अधिहरण वादों का 82 प्रतिशत है। सितम्बर माह में 130 अधिहरण वादों को निष्पादित किया गया है। डीएम डॉ. सिंह ने अधिहरण वादों के निष्पादन में गति बढ़ाने का निदेश दिया। लंबित अधिहरण वादों में से 62 अधिहरण वाद 90 दिन से अधिक समय से लंबित है। डीएम डॉ. सिंह ने इसे विशेष अभियान चलाकर प्राथमिकता के आधार पर निष्पादित करने का निदेश दिया। उन्होंने शेष अधिहरण वादों को भी समय-सीमा के अंदर निष्पादित करने का आदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने बिहार मद्य निषेध एवं उत्पाद अधिनियम, 2016 के तहत जप्त वाहन/प्रस्ताव/राज्यसात/विमुक्त/वाहन की नीलामी से संबंधित प्रगति की विभागवार एवं अनुमंडलवार समीक्षा की। 10 सितम्बर, 2022 तक कुल राज्यसात वाहनों की संख्या 2,842 है। नीलाम किये गये वाहनों की संख्या 1,772 है, जिससे कुल 7 करोड़ 45 लाख रुपए से अधिक की राशि प्राप्त हुई है। नीलाम किए गए वाहनों में 753 वाहनों का स्वामित्व परिवर्तन किया गया है। डीएम डॉ. ंिसह ने निर्धारित एसओपी के अनुसार शेष वाहनों को भी एक महीने के अंदर नीलाम करने का निदेश दिया। उन्होंने जप्त वाहनों की संख्या तथा वाहन अधिहरण के प्राप्त प्रस्तावों में अंतर पर संबंधित अनुमंडलाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को समीक्षा कर प्रतिवेदन देने का निदेश दिया। डीएम डॉ. सिंह ने जिला परिवहन पदाधिकारी को स्वामित्व परिवर्तन के मामलों को सक्रियता से निष्पादित करने का निर्देश दिया।

डीएम डॉ सिंह ने सभी अनुमंडल पदाधिकारियों एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्र में थानावार लंबित शराब की मात्रा एवं लंबित वाहनों की संख्या के संबंध में समीक्षा कर संयुक्त प्रतिवेदन देने का निदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने शराबबंदी अभियान के तहत जब्त किए गए वाहनों एवं राज्यसात से संबंधित प्रतिवेदन की अनुमंडलवार विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने सभी अनुमंडलाधिकारियों को शेष वाहनों का वाहन अधिहरण प्रस्ताव प्रेषित करने की स्थिति, लंबित रहने का कारण, उत्पाद अधिहरण न्यायालयों/विशेष न्यायालयों में केसेज की स्थिति(दण्ड, कन्विक्शन, धारा-37 के अंदर निष्पादन), शराब विनष्टीकरण की स्थिति एवं अन्य बिन्दुओं पर थानावार समीक्षा कर विस्तृत प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निदेश दिया।

डीएम डॉ सिंह ने बिहार मद्यनिषेध और उत्पाद अधिनियम, 2016 यथा संशोधित अधिनियम, 2022 तथा बिहार मद्यनिषेध और उत्पाद नियमावली, 2021 यथा संशोधित नियमावली, 2022 के प्रावधानों को लागू करते हेतु निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया के अनुसार सभी पदाधिकारियों को कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

01 अप्रैल, 2016 से 10 सितम्बर, 2022 तक पटना जिले में 1,80,006 छापामारी की गई। दर्ज अभियोगों की संख्या 61,520 है। 86,032 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। सितम्बर माह में 1,398 गिरफ्तारी हुई है जिसमें उत्पाद विभाग द्वारा 706 एवं पुलिस विभाग द्वारा 692 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कुल 16,33,852.176 लीटर शराब जप्त किया गया है जिसमें 12,719.515 लीटर शराब सितम्बर में जप्त किया गया है। डीएम डॉ. सिंह ने पारित आदेश के विरूद्ध विनष्टीकरण कार्य को तत्परता से निष्पादित करने का निदेश दिया।

डीएम डॉ .सिंह ने सभी 4 विशेष उत्पाद न्यायालयों में ट्रायल केसेज की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने निर्धारित लक्ष्य के विरुद्ध उपलब्धि हासिल करने के लिए विशेष प्रयास करने को कहा।

01 अप्रैल, 2022 से बिहार मद्यनिषेध और उत्पाद नियमावली के संशोधित प्रावधानों के लागू होने के बाद विशेष न्यायालयों द्वारा धारा 37 के अंतर्गत 4,574 अभियुक्तों पर जुर्माना किया गया है। कुल जुर्माने की राशि 2,11,21,800 रुपया है।

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि मद्यनिषेध अधिनियम के क्रियान्वयन में पटना जिला द्वारा अच्छा काम किया जा रहा है। उन्होंने सभी पदाधिकारियों को तीन माह से अधिक लंबित अधिहरण वादों का निष्पादन, शराब विनष्टीकरण तथा कन्विक्शन दर में तेजी लाने के लिए तत्परता से कार्य करने का निदेश दिया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.