जिलाधिकारी पटना डॉ चंद्रशेखर सिंह द्वारा 45 दंपति को मुख्यमंत्री अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना तथा मुख्यमंत्री निशक्तजन विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत एक-एक लाख रू. का सावधि प्रमाण पत्र प्रदान किया गया।।….

breaking News राज्य

त्रिलोकी नाथ प्रसाद :-अर्थात कुल 4500000 रुपये सावधि प्रमाण पत्र वितरित किये गये। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने सभी दंपति को सफल वैवाहिक जीवन की बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए समाज सुधार की दिशा में महत्वपूर्ण एवं सराहनीय कदम बताया। उन्होंने कहा कि समाज सुधार के महत्वपूर्ण अभियान को मजबूती प्रदान करने हेतु सरकार द्वारा अंतरजातीय विवाह के लाभुकों के लिए योजना संचालित की गई है। जिलाधिकारी ने इस योजना को जन-जन में प्रचारित करने तथा अधिकाधिक लाभुकों को योजना से आच्छादित करने का निर्देश दिया।

सभी दंपति ने अंतर्जातीय विवाह के साथ साथ बिना दहेज की शादी की है। मौके पर उपस्थित दंपति द्वारा कार्यक्रम में अपना अनुभव शेयर किया गया तथा अंतरजातीय विवाह के उपरांत परिवार एवं समाज में उत्पन्न स्थिति ,कठिनाई एवं संघर्ष के जीवन की दास्तान सुनाया गया जिसकी काफी सराहना की गई।

जिला सामाजिक सुरक्षा कोषांग की सहायक निदेशक श्रीमती स्नेहा द्वारा भी 2014 ई. मेअंतरजातीय विवाह की गई है तथा कार्यक्रम में उनके द्वारा भी अंतरजातीय विवाह के उपरांत परिवार/ समाज मे कठिनाई के बारे में लोगों को अवगत कराया गया। इनके पति पेशे से डॉक्टर हैं।

*प्रावधान क्या है*
मुख्यमंत्री निशक्तजन विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत दंपति में से अगर एक दिव्यांग है तो एक लाख रुपए मिलते हैं अगर वर एवं वधु दोनों दिव्यांग है तो ₹200000 तथा अगर वर एवं वधू दिव्यांग होने के साथ ही अंतरजातीय विवाह भी की है तो उन्हें ₹300000 प्रदान किए जाते हैं। इस योजना का लाभ तभी मिलते हैं जब दंपति के बीच पुनर्विवाह एवं पुनर्विच्छेद ना हुआ हो।

*पात्रता*

उक्त योजना से लाभ उठाने के लिए दंपति को विवाह निबंधन प्रमाण पत्र ,जाति प्रमाण पत्र, आवासीय प्रमाण पत्र एवं जन्म प्रमाण पत्र देना होता है। इस संबंध में आवेदन विवाह की तिथि से 2 वर्ष के भीतर ही मान्य होता है तथा आवेदन पति के गृह जिला के जिला सामाजिक सुरक्षा कोषांग अथवा संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी कार्यालय में दिया जा सकता है।

कार्यक्रम में सहायक निदेशक जिला सामाजिक सुरक्षा कोषांग श्रीमती स्नेहा एवं जिला जनसंपर्क पदाधिकारी प्रमोद कुमार सहित कई अन्य अधिकारी मौजूद थे।