किशनगंज : जिले में आरोग्य दिवस के दिन लगातार जारी है नियमित टीकाकरण।

breaking News District Adminstration Kishanganj राज्य स्वास्थ्य

जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर लगातार गर्भवती महिलाओं, नवजात शिशुओं और छोटे-छोटे बच्चों का किया जा रहा है टीकाकरण।किशनगंज/धर्मेन्द्र सिंह, जिले में आरोग्य दिवस के दिन नियमित टीकाकर का क्रम लगातार जारी है। ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस का आयोजन कर बच्चों को टीके लगाए जा रहे हैं व महिलाओं को परिवार नियोजन को लेकर जागरूक किया जा रहा है। एएनएम व आशा कार्यकर्ताओं द्वारा कैंप में शामिल महिलाओं को परिवार नियोजन के स्थायी व अस्थायी साधनों की जानकारी दी जा रही है। सिविल सर्जन डॉ कौशल किशोर ने बताया कि सदर अस्पताल के साथ-साथ जिले के रेफरल अस्पताल, सामुदायिक, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के साथ ही जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर नियमित रूप से गर्भवती महिलाओं, नवजात शिशुओं के साथ ही छोटे-छोटे बच्चों का नियमित टीकाकरण किया जा रहा है। इसकी निगरानी वरीय पदाधिकारियों द्वारा किया जाता है। उन्होंने बताया कि बुधवार एवं शुक्रवार को आरोग्य दिवस के दिन जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्र पर नियमित टीकाकरण किया जाता है। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ देवेन्द्र कुमार ने दिघलबैंक प्रखंड के पदमपुर पंचायत स्थित आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 121 में आरोग्य दिवस कार्यक्रम का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के क्रम में उन्होंने बताया कि सुरक्षित प्रसव को बढ़ावा देने एवं शिशु के स्वस्थ शरीर निर्माण के लिए समय पर नियमित टीकाकरण जरूरी है। इसलिए, समय पर सभी योग्य लाभार्थियों का टीकाकरण सुनिश्चित कराने को जिले में लगातार अभियान चलाकर टीकाकृत किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि नियमित टीकाकरण के दौरान शून्य से दो वर्ष तक के बच्चों को बीसीजी, ओपीवी, पेंटावेलेंट, रोटा वैक्सीन, आईपीवी, मिजल्स, विटामिन ए, डीपीटी बूस्टर डोज, मिजल्स बूस्टर डोज और बूस्टर ओपीवी के टीके लगाए जाते हैं और गर्भवती को टेटनेस-डिप्थीरिया (टीडी) का टीका भी लगाया जाता है। नियमित टीकाकरण बच्चों और गर्भवती महिलाओं को कई गंभीर बीमारी से बचाव करता है। साथ ही प्रसव के दौरान जटिलताओं से सामना करने की भी संभावना नहीं के बराबर रहती है। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ मुनाजिम ने बताया कि नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जिले के 10 से 16 आयु वर्ग के दायरे में आने वाले सभी किशोर-किशोरियों को टीडी की वैक्सीन दी जाएगी। टीडी वैक्सीन टेटनस और डिप्थेरिया जैसे गंभीर रोगों से बचाव के लिए के लिए बेहद जरूरी है। कम उम्र के किशोरों को दोनों रोगों से प्रभावित होने का खतरा अधिक रहता है। इसके कारण किशोरों को दोनों रोगों से बचाव के लिए सरकार द्वारा यह पहल की गई है। इसलिए, उक्त दोनों रोगों से बचाव के लिए सभी लाभार्थियों को टीडी का वैक्सीनेशन निश्चित रूप से कराना चाहिए। कोचाधामन प्रखंड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ एनामुल हक़ ने बताया कि प्रखंड में निर्धारित आंगनबाड़ी ग्रामीण स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण दिवस का आयोजन कर महिलाओं के बीच परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों का नि:शुल्क वितरण किया गया। साथ ही गर्भ-निरोधक गोली माला-डी, कंडोम व इमरजेंसी पिल्स आदि का भी वितरण किया गया। आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने महिलाओं को जागरूक करते हुए बताया कि “अंतरा गर्भ निरोधक इंजेक्शन” का इस्तेमाल एक या दो बच्चों के बाद गर्भ में अंतर रखने के लिए दिया जाता है। “छाया गर्भ निरोधक” एक साप्ताहिक टेबलेट है। इसे सप्ताह में एक बार सेवन करना होता है। आरोग्य दिवस पर महिलाओं को परिवार नियोजन साधनों पर बेहतर परामर्श की सुविधा उपलब्ध कराई गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.