रोज़गार मेले के तहत लगभग 71,000 नवनियुक्त नियुक्तियों को नियुक्ति पत्र के वितरण के अवसर पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ….

breaking News देश

त्रिलोकी नाथ प्रसाद =रोजगार मेले में जुड़े मेरे युवा साथियों,आप सबको बहुत-बहुत बधाई। आज देश के 45 शहरों में 71 हजार से ज्यादा युवाओं को नियुक्ति पत्र दिए जा रहे हैं। यानी, आज एक साथ हजारों घरों में खुशहाली के नए दौर की शुरुआत हुई है। पिछले महीने आज के ही दिन धनतेरस पर केंद्र सरकार की तरफ से 75 हजार नौजवानों को नियुक्ति पत्र बांटे गए थे। अब आज का ये विशाल रोजगार मेला दिखाता है कि सरकार किस तरह government job देने के लिए मिशन मोड में काम कर रही है।

साथियों,

पिछले महीने जब रोजगार मेले की शुरुआत हुई थी, तो मैंने एक और बात कही थी। मैंने कहा था कि विभिन्न केंद्र शासित प्रदेश, NDA और भाजपा शासित राज्य भी इसी तरह रोजगार मेले का आयोजन करते रहेंगे। मुझे खुशी है कि पिछले एक महीने में ही महाराष्ट्र और गुजरात में भी राज्य सरकारों की तरफ से हजारों युवाओं को नियुक्ति पत्र बांटे गए हैं। कुछ दिन पहले ही यूपी सरकार ने भी अनेकों युवाओं को नियुक्ति पत्र दिए हैं। पिछले एक महीने में जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, लक्ष्यद्वीप, दादरा और नगर हवेली, दमन और दीव और चंडीगढ़ में भी रोजगार मेले आयोजित करके हजारों युवाओं को नौकरी दी गई है। मुझे बताया गया है कि परसो यानि 24 नवंबर को गोवा सरकार भी इसी तरह के रोजगार मेले का आयोजन करने जा रही है। 28 नवंबर को त्रिपुरा सरकार भी रोजगार मेले का आयोजन कर रही है। यही डबल इंजन की सरकार का डबल फायदा है। देश के युवाओं को रोजगार मेले के माध्यम से नियुक्त पत्र देने का ये अभियान ऐसे ही अनवरत जारी रहेगा।

साथियों,

भारत जैसे युवा देश में, हमारे करोड़ों नौजवान इस राष्ट्र की सबसे बड़ी ताकत हैं। अपने युवाओं की प्रतिभा और उनकी ऊर्जा राष्ट्र निर्माण में ज्यादा से ज्यादा उपयोग में आए, इसे केंद्र सरकार सर्वोच्च प्राथमिकता दे रही है। आज राष्ट्र निर्माण के कर्तव्य पथ से जुड़ रहे अपने 71 हजार से ज्यादा नए सहयोगियों का मैं स्वागत करता हूं, अभिनंदन करता हूं। जिन पदों पर आपकी नियुक्ति होने जा रही है, उसे आपने कठिन परिश्रम से, कड़ी प्रतियोगिता में सफल होकर हासिल किया है। इसके लिए आपको और आपके परिवार को भी उतना ही हक है बधाई प्राप्‍त करने का।

 

 

मेरे युवा साथियों,

आपको ये नई जिम्मेदारी एक विशेष कालखंड में मिल रही है। देश अमृतकाल में प्रवेश कर चुका है। हम देशवासियों ने मिलकर इस अमृतकाल में भारत को विकसित बनाने का प्रण लिया है। इस प्रण की प्राप्ति में आप सभी देश के सारथी बनने जा रहे हैं। आप सभी जो नई जिम्मेदारी संभालने जा रहे हैं, उसमें आप, अन्य देशवासियों के सामने केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर नियुक्‍त होंगे एक प्रकार से। ऐसे में आपको एक और बात याद जरूर रखनी चाहिए, अपना कर्तव्य निभाने के लिए आपको अपनी भूमिका अच्छी तरह समझनी होगी। एक जनसेवक के तौर पर अपनी सेवाएं देने के लिए आपको अपनी क्षमता बढ़ाने, Capacity Building पर भी लगातार फोकस करना चाहिए। आज सरकार का प्रयास टेक्नोलॉजी की मदद से हर सरकारी कर्मचारी को बेहतर ट्रेनिंग की सुविधा देने का है। हाल ही में जो ‘कर्मयोगी भारत’ टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म लॉन्च हुआ है, उसमें कई तरह के ऑनलाइन कोर्सेस उपलब्ध हैं। आज ही, आप जैसे नए सरकारी कर्मचारियों के लिए एक विशेष कोर्स की शुरुआत भी की जा रही है। इसको नाम दिया गया है- कर्मयोगी प्रारंभ। आप ‘कर्मयोगी भारत’ प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध ऑनलाइन कोर्सेस का जरूर ज्‍यादा फायदा उठाऐंगे ही। इससे आपकी स्किल भी अपग्रेड होगी और भविष्य में आपको अपने करियर में भी काफी लाभ होगा।

साथियों,

आज आप ये भी देख रहे हैं कि वैश्विक महामारी और युद्ध के संकट के बीच, पूरे विश्व में युवाओं के सामने नए अवसरों का संकट है। बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स, विकसित देशों में भी बड़े संकट की आशंका जता रहे हैं। ऐसे समय में economists और experts ये कह रहे हैं कि भारत के पास अपना आर्थिक सामर्थ्य दिखाने और नए अवसरों को बढ़ाने का एक स्‍वर्णीम मौका है। भारत आज service exports के मामले में विश्व की एक बड़ी शक्ति बन गया है। अब एक्सपर्ट भरोसा जता रहे हैं कि भारत विश्व का manufacturing house भी बनने वाला है। इसमें हमारी Production Linked Incentive Scheme, ऐसी योजनाओं की बड़ी भूमिका होगी लेकिन इसका मुख्य आधार भारत का skilled manpower, भारत का skilled युवा ही होगा। आप कल्पना कर सकते हैं, सिर्फ PLI स्कीम में ही देश में 60 लाख नए रोजगार का सृजन होने की उम्मीद है। मेक इन इंडिया अभियान हो, वोकल फॉर लोकल हो, लोकल को ग्लोबल ले जाने का अभियान हो, ये सभी योजनाएं देश में रोजगार और स्वरोजगार के नए अवसर बना रही हैं। यानि सरकारी और गैर-सरकारी, दोनों ही क्षेत्रों में नई नौकरियों की संभावना लगातार बढ़ रही है। और बड़ी बात ये कि ये कि नए अवसर युवाओं के लिए उनके अपने शहर, अपने गांवों में बन रहे हैं। इससे युवाओं के सामने अब पलायन की मजबूरी कम हुई है और वो अपने क्षेत्र के विकास में पूरा सहयोग भी कर पा रहे हैं। स्टार्ट-अप्स से लेकर स्वरोजगार तक, स्पेस से लेकर ड्रोन तक, आज भारत में युवाओं के लिए चौतरफा नए अवसरों का निर्माण हो रहा है। आज भारत के 80 हजार से ज्यादा स्टार्ट-अप्स, युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों में अपना सामर्थ्य दिखाने का मौका दे रहे हैं। दवाइयों की सप्लाई हो या पेस्टिसाइड का छिड़काव, स्वामित्व योजना में ड्रोन से मैपिंग हो या फिर रक्षा क्षेत्र में इस्तेमाल, ड्रोन्स का उपयोग देश में लगातार बढ़ रहा है। और ड्रोन्स का ये बढ़ता हुआ उपयोग, युवाओं को नई नौकरियां दे रहा है। हमारी सरकार ने स्पेस सेक्टर को खोलने का जो निर्णय लिया, उसका भी बड़ा लाभ युवाओं को मिला है। हमने 2-3 दिन पहले ही देखा है कि कैसे भारत के प्राइवेट सेक्टर ने अपना पहला स्पेस रॉकेट सफलतापूर्वक लॉन्च किया है। आज जो अपना बिजनेस करना चाहते हैं, उन्हें मुद्रा लोन से भी बड़ी मदद मिल रही है। अब तक देश में 35 करोड़ से ज्यादा मुद्रा लोन दिए जा चुके हैं। देश में Innovation को बढ़ावा देने से, Research को बढ़ावा देने से भी रोजगार के मौके बढ़ रहे हैं। मैं देश के सभी युवाओं से आग्रह करूंगा कि इन नए अवसरों का भी पूरा लाभ उठाएं। आज जिन 71 हजार से ज्यादा युवाओं को नियुक्ति पत्र मिला है, मैं उन्हें एक बार फिर बधाई देता हूं, अपनी शुभकामनाएं देता हूं। मुझे विश्‍वास है कि आप अपनी capacity बढ़ाने के लिए प्रयास करने में कभी कोई कमी नहीं रखेंगे आज जो नियुक्‍त पत्र है वो आपका entry point है। इसका मतलब हुआ कि प्रगति का एक नया विश्‍व आपने सामने अब खुल चुका है। आप अपने आप को अधिक से अधिक योग्‍य बनाइए, काम करते- करते योग्‍यता बढ़ाइए, ज्ञान अर्जित करते-करते योग्‍यता बढ़ाइए। अपने seniors से जो अच्‍छी चिजें हैं वो सिखकर के योग्‍यता बढ़ाइए।

साथियों,

मैं भी आपकी तरह निरंतर सिखने का प्रयास करता हूं मेरे भीतर के विद्यार्थी को कभी मरने नही देता हूं। हर किसी से मैं सिखता हूं, हर छोटी चीज से सिखने का प्रयास करता हूं और उसका कारण आज मुझे एक साथ अनेक काम करने का मुझे कभी संकोच नहीं होता है, झिझक नहीं होती है, कर पाता हूं। आप भी कर सकते है और इसलिए ये जो नया विषय प्रांरभ हुआ है कर्मयोगी आरंभ का मैं आपसे चाहूंगा दोस्‍तों की आप उससे जुड़िए। क्‍या आप एक महीने के बाद मुझे आपका इस online training का क्‍या अनुभव रहा। इस online training में आपको क्‍या कमीं लग रही है, इसे और अच्‍छा कैसे बनाया जा सकता है। आप स्‍वंय भी उस कर्मयोगी training को upgrade करने में कुछ सुझाव दे सकते है क्‍या? मैं आपके response को इंतजार करूंगा। देखिए हम सब एक साथी है, एक colleague है, हम co-traveller है। भारत को विकसित राष्‍ट्र बनाने के लिए एक राह पर हम चल पड़े है। आइए अनेक-अनेक शुभकामनाओं के साथ हम सब आगे बढ़ने का संकल्‍प करे।

बहुत-बहुत धन्‍यवाद!

 

***