पुर्णिया : ईनामी अपराधी पवन सिंह को पुर्णिया पुलिस ने किया गिरफ्तार।

breaking News अपराध राज्य

पुर्णिया/धर्मेन्द्र सिंह, टीकापट्टी का ईनामी अपराधी पवन सिंह गिरफ्तार हो गया है। इसकी जानकारी पूर्णिया के एसपी आमिर जावेद द्वारा दी गई है। बताया गया की गुप्त सूचना प्राप्त हुआ कि फरार अपराधी पवन सिंह अपने गाँव सपहा आया हुआ था। उक्त की सूचना के सत्यापन एवं आवश्यक कार्रवाई के लिए गठित पुलिस टीम के द्वारा सपहा गांव पहुंचकर पवन सिंह के घर की घेराबंदी करने लगे। पुलिस की घेराबंदी देखकर पीछे दरवाजे से दो व्यक्ति अपने-अपने हाथ में हथियार लेकर भागने लगे जिसे उपस्थित हथियार बंद पुलिस बल के सहयोग से खदेड़कर दोनों व्यक्तियों को पकड़ा गया। पकड़ाये व्यक्ति के नाम/पता पूछने पर अपना पवन सिंह पिता स्व. ज्ञान चन्द्र सिंह साकिन सपहा थाना टिकापट्टी जिला पूर्णिया, धीरज कुमार यादव पिता–भूपेन्द्र यादव, साकिन सेमापुर सिक्कट थाना सीमापुर ओपी जिला कटिहार बताया। तलाशी के पश्चात पवन सिंह के कमर से एक लोडेड तथा उनके जीन्स के पैकेट से 10 जिंदा गोली बरामद किया गया। धीरज कुमार के बाये हाथ से एक देसी कारबाइन एवं उनके बैग से 10 गोली बरामद की गई। विभिन्न कांडों में फरार कुख्यात ईनामी अपराधी पवन सिंह की गिरफ्तारी के लिए अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी धमदाहा रमेश कुमार के नेतृत्व में एक विशेष टीम का गठन किया गया। जिनके सदस्य पुअनि अजय कुमार अजनबी थानाध्यक्ष टीकापट्टी, पुअनि महादेव कामत थानाध्यक्ष रूपौली, पुअनि पंकज आनंद प्रभारी तकनीकी शाखा, तकनीकी शाखा, पुअनि भारती सागर, पुअनि अरविन्द्र कुमार थानाध्यक्ष मीरगंज, पुअनि सुजीत कुमार थानाध्यक्ष भवानीपुर, पुअनि दिनेश कुमार थानाध्यक्ष धमदाहा, पुअनि सदानंद साह, पुनि सुनील कुमार मंडल, सिपाही संतोष कुमार, सिपाही सुनील कुमार कुशवाहा, इन्द्रजीत कुमार, रोहित कुमार, सचिन, मिथुन चालक सिपाही पप्पु कुमार एवं पटना एसटीएफ के टीम आदि शामिल थे। उक्त छापेमारी दल के द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार किया गया। इनके पास से देशी पिस्टल-01, देशी कारबाईन–01, जिंदा कारतूस–20 पीस 8 एमएम, जिंदा कारतूस 10 पीस 9 एमएम बरामद किया गया है। गिरफ्तार पवन सिंह ने बताया कि मैं अपराधी नहीं हूं। मैं तो आरपीएफ की नौकरी कर रहा था। लेकिन इसके बाद मेरे पिता की निर्मम हत्या कर दी गई। एक चुनाव में उन्होंने नामांकन किया था। कई लोगों ने मिलकर पिता की बेरहमी से हत्या कर दी। उनका शरीर रड से छलनी कर दिया। मुझे तो अपराधी बनाया गया है।जिसको जो आरोप लगाना है लगा दें। इस घटना से पहले मेरी सच्चाई क्या है कोई जानने वाला नहीं है। 2017 से पहले की इतिहास क्या रहा है जान लीजिए। जिसको जो आरोप लगाना है लगा दें।