किशनगंज : कोविड संक्रमण से लोगों को बिल्कुल भी घबराने की जरूरत नहीं..

breaking News District Adminstration Kishanganj ताजा खबर राज्य स्वास्थ्य

समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को मिले आवश्यक दिशा-निर्देश।

  • जिले में हर कदम बढ़ते कदम के मानकों के अनुरूप स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार की कोशिशें जारी

किशनगंज/धर्मेन्द्र सिंह, जिले में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को लेकर संचालित विशेष मुहिम “हर कदम-बढ़ते कदम”के तहत निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति का प्रयास अनवतर जारी है। गर्भवती महिलाओं के एएनसी जांच, टीकाकरण, संस्थागत प्रसव, परिवार नियोजन सहित एनसीडी सेवाओं को बेहतर बनाते हुए महत्वपूर्ण स्वास्थ्य सूचकांकों में सुधार को लेकर विभागीय स्तर से जरूरी प्रयास किये जा रहे हैं। इसी को लेकर स्वास्थ्य विभाग से संबंधित विभिन्न प्रकार की योजनाओं एवं कार्यक्रमों को लेकर प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. सुरेश प्रसाद के अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक का आयोजन जिला स्वास्थ्य समिति सभागार में मंगलवार को आयोजित की गयी। उन्होंने ने जिले में स्वास्थ्य संबंधी मामलों की बेहतरी को लेकर कई दिशा-निर्देश दिए। स्वास्थ्य योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित कराने की दिशा में भी कारगर पहल की जा रही है। बैठक में प्रभारी सिविल सर्जन सह एसीएमओ डॉ सुरेश प्रसाद, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. देवेन्द्र कुमार, प्रभारी सदर अस्ताल उपाधीक्षक डॉ उर्मिला कुमारी, जिला कार्यक्रम प्रबंन्धक डॉ. मुनाज़िम, जिला योजना समन्वयक विश्वजीत कुमार, सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंन्धक, सामुदायिक उत्प्रेरक एवं लेखापाल आदि उपस्थित थे। कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षा के लिए लोगों को सावधानी बरतना सबसे आवश्यक है। प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. सुरेश प्रशाद ने जिले वासी से अपील की है की कोविड संक्रमण से लोगों को बिल्कुल भी घबराने की जरूरत नहीं है। स्वास्थ्य विभाग इससे लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है। वर्तमान में हमारे क्षेत्र में इसका कोई प्रकोप नहीं है। लेकिन इससे लड़ने के लिए लोगों को भी तैयार रहना चाहिए। लोगों को सार्वजनिक स्थलों पर सामाजिक दूरी का ध्यान रखना चाहिए और पूरी तरह से मास्क का उपयोग करना चाहिए। इससे संक्रमित होने की संभावना कम हो जाती है। इसके अतिरिक्त बाहरी चीजों से संपर्क नहीं करने और हाथों को सैनिटाइजर से नियमित रूप से सफाई करना चाहिए। इससे बाहर से मिले संक्रमण को नष्ट किया जा सकता है जो लोगों को कोविड-19 से सुरक्षित रख सकता है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा अलर्ट मोड में सुरक्षा की तैयारी शुरू कर दी गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी लोगों को संक्रमण से सुरक्षा के लिए बचाव के साधन के उपयोग का निर्देश दिया जा रहा है। लोगों से कोविड-19 टीका के प्रीकॉशन डोज लगाने की अपील भी की जा रही है जिससे लोगों के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास हो सके और जो संक्रमण से लड़ने में लोगों की सहायता करता है। प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. सुरेश प्रशाद ने कहा कि सदर अस्पताल के 80 बेड में ऑक्सीजन सीधे पाइप लाइन से पहुंचाई जा रही है। इसके अलावा सभी सीएचसी एवं पीएचसी में भी ऑक्सीजन सिलेन्डर की उपयुक्त व्यवस्था की गयी है। किसी भी मरीज को ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी। सदर अस्पताल में नए प्रसव कक्ष, मैटरनिटी सेंटर, ऑपरेशन थियेटर प्रसूता के लिए बनाये गए हैं। साथ ही सभी तरह की जांच , एक्सरे , सिटी स्कैन , डायलिसिस की सुविधा उपलब्ध कराई गयी है।जिले में स्वास्थ्य सुविधा के तहत कुल 05 सीएचसी, 03 पीएचसी में डिजिटल एक्स-रे की शुरुआत की गयी है। साथ ही ब्लड जांच के साथ अन्य जांच की भी सुविधा दी जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित 10 अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (एपीएचसी) को क्रियाशील किया गया है। साथ ही सभी पीएचसी में 10 बेड कोविड रोगी के इलाज के लिए तैयार किया गया है। इन सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में चिकित्सक एवं दवा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। एपीएचसी में एक -एक डॉक्टर के अलावा स्टाफ नर्स की नियुक्ति की गई है। इसके प्रत्येक दिवस ई-संजीवनी के माध्यम से घर बैठे भी ओपीडी की सुविधा का जिले वासी लाभ ले रहे हैं। टेली मेडिसीन का भी लाभ मिल रहा है। जब तक स्वास्थ्य विभाग ठीक नहीं रहेगा तब तक किसी भी तरह के मरीज़ों की सेवा नहीं की जा सकेगी। जिले के विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों में मातृ-शिशु देखभाल, ओपीडी व इमरजेंसी सेवाओं में बेहतरी को लेकर जरूरी कदम उठाने के लिए दिशा-निर्देश दिया गया है।