*7 सितंबर को राहुल गांधी के साथ चलेगा पूरा देश,3500 किलोमीटर की भारत जोड़ो यात्रा होगी आरंभ…*

breaking News राजनीति

त्रिलोकी नाथ प्रसाद:-देश की रक्षा के लिए कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा 7 सितंबर से आरंभ,राहुल के नेतृत्व में निकलेगी विशाल यात्राबढ़ती महंगाई तथा बेरोजगारी की विकराल समस्या को लेकर कल दिल्ली में कांग्रेस ने हल्ला बोल रैली आयोजित किया था। अब आगामी 7 सितंबर से राहुल गांधी के नेतृत्व में विशाल भारत जोड़ो यात्रा निकालने जा रही है।कांग्रेस के प्रस्तावित भारत जोड़ो यात्रा को लेकर आज देश के प्रमुख 30 शहरों में कांग्रेस नेताओं के द्वारा एक साथ संवाददाता सम्मेलन किया गया।जिसमें राजधानी पटना के सदाकत आश्रम स्थित कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस के राज्यसभा सांसद इमरान प्रतापगढ़ी के द्वारा भारत जोड़ो यात्रा को लेकर संवाददाताओं को संबोधित किया गया।

संवाददाता सम्मेलन में सांसद इमरान प्रतापगढ़ी ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार के अत्याचार से जनता तंग आ चुकी है। केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा सभी स्वतंत्र संस्थानों पर पहरेदारी बैठा दी गई है विपक्ष को सवाल तक पूछने की इजाजत नहीं दी जा रही है पूरे देश में नफरत का माहौल बनाया जा रहा है ऐसी परिस्थिति में देश को बचाने के लिए कांग्रेस पार्टी राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा निकालने जा रही है जो आगामी 7 सितंबर से शुरू होगी। 8 सितंबर को पूरे देश की जनता इस यात्रा के साथ जुड़ जाएगी। उन्होंने बताया कि यह यात्रा कन्याकुमारी से शुरू होकर जम्मू कश्मीर तक चलेगी यह यात्रा 12 राज्यों तथा 2 केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरेगी डेढ़ सौ दिनों में 3500 किलोमीटर की भारत जोड़ो यात्रा पूरी की जाएगी उन्होंने कहा कि इस यात्रा के समापन के वक्त देश की तस्वीर बदल जाएगी जिस प्रकार से आज देश में मोदी सरकार लोकतंत्र का गला घोटने का प्रयास कर रही है।यह यात्रा भाजपा के सभी अलोकतांत्रिक तथा असंवैधानिक कृत्यों के खिलाफ देश की जनता का जवाब होगा।इस यात्रा में भारत के सामने मौजूद गंभीर विषयों पर देशवासियों के साथ सीधा संवाद किया जाएगा। हम 150 दिनों में कन्याकुमारी से कश्मीर तक 3,500 किमी. का रास्ता तय करेंगे और देश भर में लाखों लोगों के साथ बातचीत करेंगे।

सांसद इमरान प्रतापगढ़ी ने बताया कि भारत जोड़ो यात्रा’ आज के परिप्रेक्ष्य में बेहद महत्वपूर्ण है।भारत जोड़ो यात्रा तीन प्रमुख समस्याओं पर केन्द्रित है। इनमें पहली आर्थिक असमानताएं हैं, दूसरी सामाजिक भेदभाव है और तीसरी राजनीतिक तौर पर ज़रूरत से अधिक केंद्रीकरण हैं। इन तीन प्रमुख समस्याओं के खिलाफ सभी भारतीयों को एकजुट करने के लिए यह यात्रा निकाली जा रही है।

उन्होंने कहा कि एक योजनाबद्ध तरीके से हमारे संविधान को उलटने, हमारी संस्थाओं को ध्वस्त करने, हमारे लोकतंत्र को खोखला करने, हमारी एकता और भाईचारे को समाप्त करने के प्रयास किए जा रहे हैं। लोगों द्वारा चुनी गईं विपक्षी दलों की राज्य सरकारें धन बल और एजेंसियों का दुरुपयोग कर गिराई जा रही हैं। राज्यों की आवाज़ को दबाया जा रहा है; उन्हें केंद्र सरकार की ओर से राज्य के हिस्से पर राजस्व की बकाया रकम समय पर नहीं मिल रही है। दलितों, आदिवासियों, पिछड़े वर्गों को उनके मूल अधिकारों – जल, जंगल और जमीन से वंचित रखा जा रहा है।
हम इन चुनौतियों का सामना केवल एकता से ही कर सकते हैं – एक साथ आकर, एक-दूसरे का हाथ थामकर और साथ रहने का संकल्प लेकर। इसी सोच के अनुसार भारत जोड़ो यात्रा के माध्यम से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस सामाजिक कार्यकर्ताओं, बुद्धिजीवियों, अन्य राजनीतिक दलों और लाखों आम लोगों से संपर्क करेगी और देश की गंभीर चुनौतियों से निपटने के तरीकों पर संवाद शुरू करेगी। हमें इतना ज़ोर से बोलना होगा कि यह बहरी सरकार हमारी आवाज सुन सके।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा 7 सितंबर को कन्याकुमारी से शुरू हो रही है और जम्मू कश्मीर तक चलेगी।
यह यात्रा 12 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरेगी – तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर।3,500 किमी से अधिक की यह यात्रा लगभग 150 दिनों में पूरी होगी।उन्होंने कहा कि इस यात्रा में उन राज्यों के भी लोग शामिल रहेंगे जिन राज्यों से होकर यह यात्रा नहीं गुजरेगी।उन्होंने कहा कि बिहार, बंगाल झारखंड और छत्तीसगढ़ के लिए भी इस यात्रा के बाद कांग्रेस के द्वारा एक बड़ी यात्रा की तैयारी की जा रही है।

संवाददाता सम्मेलन में बिहार प्रदेश कांग्रेस मीडिया कमेटी के चेयरमैन राजेश राठौड़ अल्पसंख्यक सेल के प्रदेश अध्यक्ष मिन्नत रहमानी, प्रदेश कांग्रेस के आईटी सेल अध्यक्ष सौरभ सिन्हा तथा पूर्व महासचिव कैसर खान उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.