*पटना:-डीएम की अध्यक्षता में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, पटना सिटी की प्रबंधन समिति की बैठक…*

breaking News राज्य

आठ कम्प्यूटर क्रय करने एवं वाटर कूलर संस्थापित कराने का डीएम ने दिया निदेश

विद्यालय प्रांगण के खेल मैदान का समुचित रख-रखाव सुनिश्चित करें: डीएम

विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुलभ कराना प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता: डीएम

त्रिलोकी नाथ प्रसाद:-पटना,  जिला पदाधिकारी, पटना-सह-अध्यक्ष, विद्यालय प्रबंधन समिति, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, पटना सिटी डॉ. चन्द्रशेखर सिंह द्वारा आज विद्यालय प्रबंधन समिति की बैठक की गई। यह बैठक विद्यालय के प्रशासनिक भवन में आयोजित की गई। डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण एवं उत्कृष्ट शिक्षा उपलब्ध कराना प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने प्रधानाध्यापक एवं शिक्षकों सहित सभी पदाधिकारियों को इसके लिए तत्पर एवं प्रतिबद्ध रहने का निदेश दिया।

इस बैठक में एजेंडावार चर्चा की गई तथा शैक्षणिक हित में आवश्यक निर्णय लिया गया। शिक्षकों का पदस्थापन, कम्प्यूटर का क्रय, प्रसाधनों का निर्माण, क्रीड़ा मैदान का जीर्णोंद्धार, भवनों एवं वर्ग कक्षों की मरम्मति, पेयजल की उपलब्धता, विद्यालय परिसर से जल निकासी का स्थायी निदान सहित सभी बिन्दुओं पर विस्तृत विमर्श किया गया। छात्रों की जरूरत एवं मांग के अनुरूप निर्णय लिया गया।

बैठक की शुरूआत में जिला शिक्षा पदाधिकारी श्री अमित कुमार द्वारा विद्यालय की शैक्षणिक स्थिति के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई।

डीएम डॉ. सिंह ने आठ डेस्कटॉप का क्रय करने का निदेश दिया। उन्होंने कहा कि विŸाीय नियमों का अक्षरशः अनुपालन करते हुए क्रय समिति के निर्णय के अनुसार उच्च तकनीकी गुणवत्ता एवं विशिष्टियों से लैस कम्प्यूटर की खरीद की जाए। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (योजना एवं लेखा, शिक्षा) की अध्यक्षता में समिति द्वारा आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि कम्प्यूटर आज के समय में मूलभूत आवश्यकता है। विद्यालय के बच्चों की मांग एवं जरूरत के अनुसार कम्प्यूटर का क्रय किया जा रहा है। उन्होंने कम्प्यूटर कोष गठन करने का निदेश दिया। गौरतलब है कि बैठक में समिति के सदस्य के तौर पर विद्यार्थियों के अभिभावक भी उपस्थित थे। डीएम डॉ. सिंह ने जिला शिक्षा पदाधिकारी श्री अमित कुमार को विहित प्रक्रिया के अनुसार विद्यालय में कम्प्यूटर प्रशिक्षक की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का निदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने विद्यालय में मानक के अनुरूप शिक्षकों के पदस्थापन हेतु जिला शिक्षा पदाधिकारी को प्रस्ताव उपस्थापित करने का निदेश दिया। वर्तमान में विद्यालय में कुल 20 शिक्षक कार्यरत हैं। इसमें उच्च माध्यमिक कक्षाओं हेतु 05 शिक्षक तथा माध्यमिक कक्षाओं हेतु 15 शिक्षक शामिल हैं।

डीएम डॉ. सिंह ने क्रीड़ा मैदान का जीर्णोद्धार कार्य शीघ्र करने का निदेश दिया। उन्होंने मिट्टी भराई का प्राक्कलन बनाते हुए तकनीकी स्वीकृति के साथ प्रस्ताव उपस्थापित करने का निदेश दिया। डीएम डॉ. सिंह ने खेल के मैदान से सटे मुख्य नाला की उड़ाही का कार्य तुरत करने का निदेश दिया। उन्होंने खेल के मैदान की क्षतिग्रस्त चहारदीवारी का निर्माण करने का निदेश दिया। डीएम डॉ. सिंह ने विद्यालय के खेल के मैदान एवं भवनों से जल निकासी के स्थायी निदान के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित नहीं करने एवं आज की बैठक से बिना किसी पूर्व सूचना के अनुपस्थित रहने के कारण नगर कार्यपालक पदाधिकारी, पटना सिटी से कारण-पृच्छा करते हुए उनका स्पष्टीकरण उपस्थापित करने का निदेश दिया। डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि विद्यालय में जल-जमाव किसी भी कीमत पर नहीं होना चाहिए।

डीएम डॉ. सिंह ने अनुमंडल पदाधिकारी, पटना सिटी श्री मुकेश रंजन झा को विद्यालय में स्वच्छ पेयजल की और बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने का निदेश दिया। उन्होंने कहा कि कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) के तहत वाटर कूलर का संस्थापन कराने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जाए। डीएम डॉ. सिंह ने माध्यमिक वर्ग कक्ष के नजदीक आवश्यक प्रसाधनों का निर्माण करने का निदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने विद्यालय के पुस्तकालय में आवश्यकतानुसार पुस्तकों का क्रय करने का निदेश दिया। उन्होंने भवनों एवं कक्षों की नियमित तौर पर अनुरक्षण एवं वृहद मरम्मति करने का निदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने अनुमंडल पदाधिकारी को विद्यालय परिसर की सुदृढ़ व्यवस्था सुनिश्चित करने का निदेश दिया।

बैठक से पहले डीएम डॉ. सिंह ने विभिन्न कक्षाओं, प्रयोगशाला एवं कक्षों का भ्रमण किया। उन्होंने कक्षा में छात्रों से उनके विषयों के बारे में जानकारी ली, विद्यालय में उपलब्ध सुविधाओं एवं आवश्यकताओं के बारे में पूछा तथा उनके उद्देश्यों से रू-ब-रू हुए। डीएम डॉ. सिंह ने कक्षा 11 में विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में बिहार सरकार के महत्वपूर्ण मिशन जल-जीवन-हरियाली अभियान के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण एवं हरियाली वृद्धि के लिए हम सब को सतत प्रयत्नशील रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा है कि जल एवं हरियाली रहेगी तभी पृथ्वी पर जीवन सुरक्षित रहेगा। डीएम डॉ. सिंह द्वारा कक्षा 9 के विद्यार्थियों को स्वास्थ्य एवं इसके उचित देखभाल पर महत्वपूर्ण जानकारी दी गई।

डीएम डॉ. सिंह ने विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना की।

डीएम डॉ. सिंह ने भौतिकी, रसायन एवं जीव विज्ञान की प्रयोगशालाओं का निरीक्षण किया। उन्होंने उपलब्ध सुविधा एवं प्रयोगशालाओं के संचालन पर खुशी व्यक्त की।

विदित हो कि यह एक अत्यंत प्राचीन एवं प्रसिद्ध विद्यालय है। इस विद्यालय की स्थापना वर्ष 1803 में की गई थी। 1956 में इसे उत्क्रमित किया गया। पाँच एकड़ में फैले इस विद्यालय में वर्ग 9 से 12 तक पढ़ाई होती है। छात्र-छात्राओं की कुल संख्या 963 है। माध्यमिक कक्षा ( वर्ग 9 एवं 10) में विद्यार्थियों की कुल संख्या 448 तथा उच्च माध्यमिक कक्षा (वर्ग 11 एवं 12) में विद्यार्थियों की कुल संख्या 515 है। प्रशासनिक भवन में 11 कमरा तथा 01 हॉल है। माध्यमिक वर्ग कक्ष में 08 कमरा तथा उच्च माध्यमिक वर्ग कक्ष में भी 08 कमरा है। उच्च माध्यमिक कक्षाओं हेतु 05 शिक्षक तथा माध्यमिक कक्षाओं हेतु 15 शिक्षक (दो शारीरिक शिक्षकों सहित) पदस्थापित हैं। इसके अतिरिक्त व्यावसायिक शिक्षा हेतु एक अनुदेशक एवं एक प्रयोगशाला सहायक भी कार्यरत हैं। पेयजल हेतु विद्यालय में दो बोरिंग है। दो महिला प्रसाधन एवं दो पुरूष प्रसाधन भी है।

डीएम डॉ. सिंह ने विद्यालय के संचालन, उत्कृष्ट शैक्षणिक माहौल, स्वच्छता एवं स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता पर संतोष व्यक्त किया गया।

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि छात्र-छात्राओं के शैक्षणिक आवश्यकता के अनुरूप सभी व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। उनके सर्वांगीण विकास के लिए उत्कृष्ट शैक्षणिक वातावरण का निर्माण करने के लिए प्रशासन सतत प्रयत्नशील है।

इस अवसर पर जिलाधिकारी के साथ सहायक समाहर्ता सुश्री शैलजा पांडेय, अनुमंडल पदाधिकारी, पटना सिटी, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (योजना एवं लेखा), विद्यालय के प्राचार्य श्रीमती रत्ना एवं विद्यालय प्रबंधन समिति के अन्य सदस्य भी उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.