किशनगंज : उद्योग विभाग के निदेशक की अध्यक्षता में हुई बैठक, उद्योग के समाधान पर हुई चर्चा।

breaking News District Adminstration Kishanganj ताजा खबर प्रमुख खबरें राज्य

किशनगंज/धर्मेन्द्र सिंह, शुक्रवार को उद्योग विभाग के निदेशक पंकज दीक्षित की अध्यक्षता में समाहरणालय सभागार में उद्योग के विस्तार एवं उद्योग की संभावनों के लिए उद्योगपतियों एवं संबंधित पदाधिकारियों के साथ बैठक आहुत की गई। इस मौके पर डीएम श्रीकान्त शास्त्री के द्वारा निदेशक को पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत किया गया। इसके पश्चात बैठक की कार्यवाही आरंभ की गई। बैठक में उद्योग प्रतिनिधियों के द्वारा जिले में उद्योग के संचालन में विद्युत आपूर्ति बाधित होने की समस्या तथा उनके समाधान के विषय पर चर्चा किया गया। बैठक में उपस्थित कार्यपालक अभियंता, विद्युत आपूर्ति प्रमंडल किशनगंज एवं बहादुरगंज को आधारभूत संरचना को सुदृढ़ करने का निर्देश दिया गया। कार्यपालक अभियंता, विद्युत आपूर्ति प्रमंडल किशनगंज एवं बहादुरगंज के द्वारा बताया गया कि इस जिले में ठनका की समस्या अधिक है, जिस कारण विद्युत आपूर्ति बाधित हो जाती है। साथ ही पोठिया एवं ठाकुरगंज प्रखण्ड के लिए विद्युत आपूर्ति सीधे किशनगंज से ही की जाती है, जिस कारण भी इस प्रकार की समस्या आती है। उनके द्वारा यह भी बताया गया कि ठाकुरगंज प्रखण्ड में ग्रिड निर्माण की कार्रवाई की जा रही है।निदेशक पंकज दीक्षित द्वारा बैठक में बैंको के प्रतिनिधि एवं अग्रणी बैंक प्रबंधक के साथ समीक्षा की गई, जिसमें पी.एम.ई.जी.पी. लोन की विस्तृत समीक्षा की गई। समीक्षा के क्रम में निदेश दिया गया कि जिन बैंको द्वारा अधिक संख्या में ऐसे आवेदनों को अस्वीकृत अथवा लंबित रखा गया है उनकी पुर्नसमीक्षा कर निष्पादन की कार्रवाई करेंगे। बैठक के दौरान निदेशक द्वारा बताया गया कि किशनगंज जिला अपेक्षाकृत गरीब जिला है। यहाँ उद्योगों की संभावना पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। इसके अलावा Standup, MSME, मुद्रा लोन इत्यादि की भी समीक्षा की गई। पी.एम.ई.जी.पी. फेज-2 के संदर्भ में सक्रिय प्रयास करने का निदेश दिया गया। सभी बैंको के प्रतिनिधि एवं महाप्रबंधक, जिला उद्योग केन्द्र, किशनगंज को समन्वय स्थापित कर लंबित मामलों का शीघ्र निष्पादन करने हेतु निदेशित किया गया। निदेशक पंकज दीक्षित द्वारा बैंकिंग से संबंधित एवं नीलाम पत्र से संबंधित कार्यों की भी समीक्षा की गई। बैंक के प्रतिनिधियों द्वारा बताया गया कि नीलाम पत्र वाद में अपेक्षित प्रगति नहीं होने के कारण उन्हें काफी कठिनाई होती है। निदेशक द्वारा बैठक में बताया गया कि सभी बैंक अपना एक प्रतिनिधि संबंधित नीलाम पत्र पदाधिकारी से सम्बद्ध करेंगे जो एक कार्ययोजना तैयार कर नीलाम पत्र वादों के निष्पादन में अग्रेतर कार्रवाई करेंगे। अनुमंडल पदाधिकारी, किशनगंज को सरफेसी एक्ट के तहत लंबित मामलों का निष्पादन शीघ्र करने का निदेश दिया गया। निदेशक द्वारा जीविका की योजनाओं की भी समीक्षा की गई। समीक्षा के क्रम में पाया गया कि जीविका दीदीयों के द्वारा अनानास की खेती की जाती है, परन्तु उन्हें बाजार मूल्य नहीं मिलने एवं उपयुक्त खफत नहीं होने के कारण काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। निदेशक द्वारा बैंक के पदाधिकारी एवं जीविका के प्रबंधक को अनानास से संबंधित फुड प्रोसेसिंग यूनिट लगाने का प्रस्ताव विभाग को भेजने का निर्देश दिया गया। वही नव प्रर्वतन योजना के तहत उद्योग कल्टर की स्थिति की भी समीक्षा की गई। निदेशक द्वारा महाप्रबंधक, जिला उद्योग केन्द्र, किशनगंज को लंबित परियोजनाओं की समीक्षा करने तथा उसे पूर्ण कराने का निदेश दिया गया। बैठक में अपर समाहर्त्ता, अनुमंडल पदाधिकारी, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी राशिद आलम वरीय उप समाहर्ता श्वेतांक लाल, जिला योजना पदाधिकारी, जिला परियोजना प्रबंधक जीविका, अग्रणी बैंक प्रबंधक, कार्यपालक अभियंता, विद्युत आपूर्ति प्रमंडल, किशनगंज एवं बहादुरगंज, महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र किशनगंज एवं इस जिले के उद्योगपति आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.