किशनगंज : अपर निदेशक स्वास्थ्य ने बहादुरगंज, कोचाधामन, दिघलबैंक सीएचसी का किया निरीक्षण।

breaking News District Adminstration Kishanganj ताजा खबर राज्य स्वास्थ्य

मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं की ली जानकारी।

किशनगंज/धर्मेन्द्र सिंह, जिले के बहादुरगंज, कोचाधामन, दिघलबैंक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का अपर निदेशक स्वास्थ्य डॉ. अशोक कुमार ने रविवार की देर शाम औचक निरीक्षण किया। उन्होंने सबसे पहले अस्पताल परिसर व वार्डों की साफ सफाई देखी। इसके बाद स्टाफ उपस्थित रजिस्टर के साथ स्टाक रजिस्टर, जननी सुरक्षा योजना समेत दवाओं की बाबत जानकारी हासिल की। उन्होंने कर्मियों को समय से ड्यूटी पर आने तथा मरीजों को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने का निर्देश दिया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने तीनो प्रभारी चिकित्साधिकारी से मरीजों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी ली। उन्होंने कोविड हेल्प डेस्क का भी निरीक्षण किया। साथ ही कर्मचारियों को आगाह किया कि सोशल डिस्टेंस के अलावा कोरोना गाइडलाइन का हरसंभव पालन करें। उन्होंने वार्डों व लेबर रूम का भी जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ देवेन्द्र कुमार एवं जिला कार्यक्रम प्रबंधक डॉ मुनाजिम सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित रहे। निरिक्षण के दुसरे दिन सोमवार को अपर निदेशक स्वास्थ्य डॉ. अशोक कुमार ने सुबह सदर अस्पताल का निरिक्षण किया जिसमे इमरजेंसी वार्ड, लेबर रूम, मेडिकल स्टोर आदि का बारीकी से निरीक्षण किया। अस्पताल में मरीजों को मिलने वाली एक-एक सुविधाओं की बारीकी से जानकारी ली और कुल मिलाकर वह व्यवस्था से संतुष्ट दिखे। दवा काउंटर पर गए और वहां पर मौजूद दवा की सूची को देखा। साथ ही पूछा कि महीने में कितनी दवा की खपत होती है। कौन-सी दवा सबसे अधिक खपत होती है। इसके बाद वह सामान्य ओपीडी, ऑपरेशन थियेटर, दंत रोग के ओपीडी और एक्सरे सेंटर पर भी गए। वहां पर मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं को जांचा और परखा। इसके बाद उन्होंने अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. अनवर आलम को अस्पताल में सभी तरह की दवा मौजूद रखने का निर्देश दिया। ओपीडी से लेकर लेबर रूम तक गए और वहां पर मरीजों की संख्या के बारे में जानकारी ली। जितने भी मरीज इलाज कराने आ रहे हैं, यदि उनका आयुष्मान कार्ड बना है तो उनका इलाज उसी कैटेगरी में किया जाए। लेबर रूम के स्थिति संतोषजनक पाई गई। उन्होंने कहा कि किसी भी बच्चे की मृत्यु इलाज के अभाव में नहीं होनी चाहिए, यदि उनकी स्थिति गंभीर हो रही है तो रेफर कर दिया जाए। जाते वक्त उन्होंने अस्पताल में सभी तरह की सुविधाओं को हमेशा बहाल रखने के लिए, मरीजों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हो, इसका ख्याल रखने का निर्देश दिया। अपर निदेशक स्वास्थ्य डॉ. अशोक कुमार ने कोचाधामन एवं दिघलबैंक में आशा, एएनएम की समीक्षा बैठक में भाग लिया जिसमे समीक्षा के दौरान उन्होंने प्रसव सुविधा, कोविड टीकाकरण, नियमित टीकाकरण, परिवार नियोजन, रिप्रोडक्टिव चाइल्ड हेल्थ, प्रसव पूर्व एवं पश्चात जांच, गैर संचारी रोग स्क्रीनिंग और टेलीमेडिसिन सहित स्वास्थ्य कार्यक्रम पर चर्चा की। चर्चा के दौरान उन्होंने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को जिले में रिक्त आशा और आशा फैसिलिटेटर के पदों को जल्द से जल्द पूरा करने का आदेश दिया। मालूम हो कि जिले में 50 आशा और 05 आशा फैसिलिटेटर के पदों को भरा जाना है। आरसीएच पोर्टल एवं अनमोल एप पर योग्य दंपत्ति, गर्भवती माता एवं नवजात शिशु के पंजीकरण हेतु आवश्यक निर्देश दिया गया है। इसमें प्रखंड स्तर से स्वास्थ्य उपकेंद्र की जितने भी गर्भवती माता, नवजात शिशु आते हैं या चिह्नित होते हैं उनको यथाशीघ्र आरसीएच पोर्टल पर इंट्री करने हेतु निर्देश दिया गया है। जिले में निरिक्षण के कर्म में डॉ. अशोक कुमार ने कहा की समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े लोगों तक जरूरी स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को दिशा निर्देश दिए गये है, साथ ही नियमित निरिक्षण का भी निर्देश दिया गया है इससे जमीनी स्तर के स्वास्थ्य कार्यकर्ता के मनोबल में वृद्धि होगी। अस्पताल के प्रसव कक्ष, अस्पताल परिसर, ओटी परिसर की पूरी साफ सफाई नियमित रूप से किया जाना आवश्यक है।उन्होंने कहा 12 वर्षों से ऊपर के लोगों का कोविड टीकाकरण करना, मास्क लगाना, बार-बार हाथ धोना और हमेशा उचित दूरी का पालन करना बेहद आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.