मकर संक्रान्ति, 2023 के सफल आयोजन हेतु दण्डाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई।।…

breaking News राज्य

त्रिलोकी नाथ प्रसाद:-उत्कृष्ट भीड़ प्रबंधन, सुदृढ़ विधि व्यवस्था संधारण तथा सुगम यातायात प्रबंधन हेतु सभी व्यवस्था की गई हैः डीएम व एसएसपी

23 घाटों पर 32 दंडाधिकरियों एवं पुलिस पदाधिकारियों की तैनाती की गई; 6 गंगा नदी गश्ती दल भी मुस्तैद रहेगा

पटना, शुक्रवार, दिनांक 13.01.2023ः जिला दंडाधिकारी, पटना डॉ. चन्द्रशेखर सिंह एवं वरीय पुलिस अधीक्षक, पटना श्री मानवजीत सिंह ढिल्लो ने कहा है कि मकर संक्रान्ति, 2023 के अवसर पर जिला प्रशासन द्वारा सभी आवश्यक व्यवस्था की गई है। 23 गंगा नदी घाटों पर 32 दंडाधिकरियों तथा पुलिस पदाधिकारियों की तैनाती की गई है। स्पेशल मोबाईल टीम द्वारा सघन पेट्रोलिंग की जाएगी। वाच टावरों से भीड़ की निगरानी की जाएगी। मुख्य स्थलों पर क्यूआरटी तैनात किया गया है। उत्कृष्ट भीड़ प्रबंधन, सुदृढ़ विधि व्यवस्था संधारण तथा सुगम यातायात प्रबंधन हेतु सभी व्यवस्था की गई है।

डीएम डॉ सिंह एवं एसएसपी श्री ढिल्लो ने कहा कि मकर संक्रांति के अवसर पर गंगा नदी के विभिन्न महत्वपूर्ण घाटों पर श्रद्धालुओं की अत्यधिक भीड़ होती है। घाटों पर श्रद्धालु अपने परिवार के सदस्यों के साथ स्नान करने आते हैं। जिन घाटों पर स्नानार्थियों की काफी भीड़ होने की संभावना है वहां पर अतिरिक्त विशेष सतर्कता बरती जाएगी। असामाजिक तत्वों तथा अशांति फैलाने का प्रयास करने वालों पर कड़ी नजर रहेगी। उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। आवश्यकतानुसार निरोधात्मक तथा कानूनी कार्रवाई भी करने का निर्देश दिया गया है।

अपर समाहर्त्ता, आपदा प्रबंधन को आपदा प्रबंधन के एसओपी के अनुसार भीड़ प्रबंधन का अनुश्रवण करने का निर्देश दिया गया है।

सभी अनुमंडल पदाधिकारियों एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारियों को आवश्यकतानुसार अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत मजिस्ट्रेट एवं फोर्स को प्रतिनियुक्त करने का निदेश दिया गया है।

डीएम डॉ सिंह व एसएसपी श्री ढिल्लो ने सभी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारियों को कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर कोविड-अनुकूल व्यवहार का अनुपालन सुनिश्चित कराने का निदेश दिया है।

सभी थानाध्यक्ष भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों तथा मार्गाे पर सघन वाहन गश्ती सुनिश्चित करेंगे।

डीएम डॉ सिंह व एसएसपी श्री ढिल्लो ने कहा कि मकर संक्रांति के अवसर पर काफी संख्या में लोग गंगा नदी में नाव पर चलते-फिरते हैं जिससे स्नान करने वालों को असुविधा होती है। इसके अतिरिक्त अप्रशिक्षित एवं गैर अनुज्ञप्ति धारी नाविकों द्वारा भी नावों का परिचालन करने की कोशिश की जाती है। इनकी नावें अविश्वसनीय हैं। इन नावों पर जीवन रक्षक उपकरण भी नहीं रहता है। ऐसे नावों पर चलना जीवन को जोखिम में डालना है। इन सब कारणों से *लोकहित में मकर संक्रांति के दिन किसी भी तरह के नाव के परिचालन पर रोक रहेगी*।

सभी अनुमंडल पदाधिकारियों द्वारा अपने-अपने क्षेत्र में गंगा नदी एवं अन्य नदियों पर मकर संक्रांति के दिन स्नानार्थियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कर्तव्य पर तैनात पदाधिकारियों/ कर्मियों के अतिरिक्त मोटर बोट/ नावों के परिचालन पर दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत परिचालन पर रोक लगाने हेतु निषेधाज्ञा जारी की गई है। डीएम डॉ सिंह द्वारा सभी पदाधिकारियों को इसका अनुपालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है।

डीएम डॉ सिंह व एसएसपी श्री ढिल्लो ने कहा कि सुरक्षा एवं गंगा नदी में निजी नाव के परिचालन पर प्रभावी रोक लगाये जाने हेतु एनडीआरएफ एवं एसडीआरएफ दल के द्वारा सघन नदी गश्ती की जाएगी। अपर समाहर्त्ता, आपदा प्रबंधन को आपदा प्रबंधन के एसओपी के अनुसार भीड़ प्रबंधन का अनुश्रवण करने का निर्देश दिया गया है। किसी भी आकस्मिकता की स्थिति से निपटने हेतु पर्याप्त संख्या में एसडीआरएफ के जवानों एवं गोताखोरों को लाइफ जैकेट के साथ प्रतिनियुक्त करने एवं गंगा नदी घाटों में पर्याप्त ड्रैगन लाइट की व्यवस्था सुनिश्चित करने का निदेश दिया गया है।

नदी गश्ती दल सुनिश्चित करेगा कि नदी में कोई भी असामाजिक तत्व किसी भी तरह की गड़बड़ी नहीं करने पाए। साथ ही नदी में कोई भी नाव अनधिकृत रूप से न चले। गश्ती दल में गोताखोर भी जाल/ महाजाल के साथ तैनात रहेंगे जो पदाधिकारी के पर्यवेक्षण में स्नान करने वालों की सुरक्षा एवं डूबने जैसी दुर्घटनाओं की स्थिति में बचाव का कार्य करेंगे। इसके अतिरिक्त गंगा नदी पुल गाय घाट पर भी गश्ती की व्यवस्था संबंधित थानाध्यक्ष सुनिश्चित करेंगे।

डीएम डॉ सिंह व एसएसपी श्री ढिल्लो ने कहा की स्पेशल मोबाईल टीम द्वारा सघन गश्ती की जाएगी।

डीएम डॉ सिंह व एसएसपी श्री ढिल्लो ने कहा कि अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत विधि व्यवस्था के सम्पूर्ण प्रभार में रहेंगे।

अपर जिला दंडाधिकारी विधि व्यवस्था, नगर पुलिस अधीक्षक मध्य, नगर पुलिस अधीक्षक पूर्वी एवं नगर पुलिस अधीक्षक पश्चिमी विधि व्यवस्था के सम्पूर्ण वरीय प्रभार में रहेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में विधि व्यवस्था के सम्पूर्ण वरीय प्रभार में पुलिस अधीक्षक, ग्रामीण रहेंगे।

डीएम डॉ सिंह व एसएसपी श्री ढिल्लो ने सभी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारियों को *सजग, तत्पर तथा सक्रिय* रहने का निर्देश दिया है।

डीपीआरओ, पटना