किशनगंज : आर्थिक रूप से अक्षम लोग को मुफ्त चिकित्सकीय सहायता प्रदान करने को बनाए जा रहे गोल्डन कार्ड।

breaking News District Adminstration Kishanganj राज्य

जिले में 28 नवम्बर से 03 दिसंबर तक आयुष्मान भारत कैंप का आयोजनकिशनगंज/धर्मेन्द्र सिंह, जिले में आर्थिक रूप से अक्षम लोग आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत मुफ्त चिकित्सकीय सहायता का लाभ ले सकते हैं। इसके तहत पूरे जिले में पात्र लाभार्थियों के लिए विशेष कैंप का आयोजन कर उनका आयुष्मान कार्ड बनाया जाएगा। सोमवार से आगामी 03 दिसंबर तक जिले के सभी प्रखंडों में बारी बारी से कैम्प का आयोजन किया जाएगा। सिविल सर्जन डॉ. कौशल किशोर ने बताया केंद्र सरकार की यह महत्वाकांक्षी योजना है। जिसे शत-प्रतिशत सफल बनाने में सभी की सहभागिता अनिवार्य है। खासकर पंचायती राज के प्रतिनिधियों की अहम भूमिका है। उक्त समय में अधिक से अधिक गोल्डन कार्ड बनाने का लक्ष्य रखा गया है। पात्र लाभार्थी को इस योजना के तहत 5 लाख रु. प्रति वर्ष मुफ्त इलाज के लिए सरकार द्वारा सूचीबद्ध अस्पतालों में उपलब्ध करायी जाती है।आयुष्मान भारत के जिला कार्यक्रम समन्वयक पंकज कुमार ने बताया कि जिले में कुल लक्षित परिवार के आलोक में अभी तक आयुष्मान योजना के तहत 1 लाख 68 हजार गोल्डन कार्ड बनाया जा चुका है। वहीं 80 हजार 889 परिवारों के कुल लक्ष्य 2 लाख 17 हजार 430 परिवार के आलोक में कार्ड निगत किया गया है। जिले में अब तक कुल 10 हजार से अधिक लाभुक ने इसका लाभ उठाया है। जिला कार्यक्रम प्रबंधक डॉ मुनाजिम ने बताया कि आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का क्रियान्वयन पात्र लाभार्थियों को वर्ष में 5 लाख रुपये तक की निःशुल्क चिकित्सा प्रदान करने के लिए किया जाता है। योजना के सम्पूर्ण क्रियान्वयन के लिए आवश्यक है कि सभी पात्र लाभार्थियों को योजना से सम्बंधित गोल्डन कार्ड बना कर उपलब्ध करायी जाये। जिले में निर्गत गोल्डन कार्ड का प्रतिशत कम है। अतः पात्र लाभार्थियों को आयुष्मान पखवाड़ा के तहत 28 नवम्बर से 3 दिसंबर तक विशेष शिविर आयोजित कर गोल्डन कार्ड उपलब्ध कराया जायेगा।

क्या है आयुष्मान भारत योजना:

सिविल सर्जन डॉ कौशल किशोर ने बताया आयुष्मान भारत योजना के माध्यम से केंद्र सरकार गरीब, उपेक्षित परिवार और शहरी गरीब लोगों के परिवारों को स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराना चाहती है। आयुष्मान भारत योजना को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना भी कहा जाता है। यह योजना देश के गरीब लोगों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये की स्वास्थ्य बीमा देना है। जिला कार्यक्रम समन्वयक पंकज कुमार ने बताया, 2011 में सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना हुआ था जिसमें पात्रता के आधार पर लाभार्थी की सूची भारत सरकार के द्वारा ही तैयार की गई है। यह सुरक्षा योजना दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है। आयुष्मान भारत योजना के जो लोग लाभार्थी हैं वह सीएससी सेंटर पर जाकर कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं। कार्ड की पात्रता के लिए नए परिवार का नाम नहीं जुड़ सकता है, परंतु जिस परिवार का नाम सूची में है और उनके यहां उनके परिवार के नए सदस्य का नाम जोड़ा जा सकता है। जैसे शादी होने के बाद पत्नी व बच्चे का नाम जोड़ा जा सकता है। सिविल सर्जन डॉ कौशल किशोर ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को पत्र जारी कर कहा है कि गोल्डन कार्ड बनवाने से एक भी लोग वंचित नहीं रहें। इसके लिए पंचायत स्तरीय जनप्रतिनिधि मुखिया, वार्ड सदस्य समेत अन्य जनप्रतिनिधि भी सहयोग करें। साथ ही कार्ड बनाने को लेकर जागरूक करें। स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी आशा कार्यकर्ता भी अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगी और कार्ड बनाने के लिए प्रेरित करेंगी एवं कार्ड बनने के बाद इलाज में होने वाले सरकारी मदद की भी जानकारी देंगी।