ज्योतिष/धर्म

*🌹आज का पंचांग 🌹*

*दिनांक 26 मई 2024*
*विक्रम संवत 2081*
*शक संवत 1946*
*अयन – उत्तरायण*
*ऋतु – ग्रीष्म*
*मास- ज्येष्ठ*
*पक्ष- कृष्णपक्ष*
*तिथि – तृतीया दिन 05:45 उपरांत चतुर्थी*
*दिन – रविवार*
*नक्षत्र – मूल दिन 10:37 उपरांत पूर्वांषाढ़*
*योग – साध्य*
*सूर्य नक्षत्र – रोहिणी*
*सूर्य राशि – बृष*
*सूर्योदय – 05:00रांची(झारखंड)*
*सूर्यास्त- 18:34*
*चन्द्रोदय – 09:40 रात्रि*
*राहुकाल – 16:30 – 18:00*
*🌹🌷शुभ समय🌷🌹*
*अभिजित मुहूर्त : 11:36 – 12:24*
🌹 *शिव वास -:*
*18 + 18 + 5 = 41 ÷ 7 = 6 शेष*
*क्रीड़ा में = सन्ततिकष्ट*
*♨️अग्निवास : पृथ्वी पर = सूखदायक*
*राहुकाल वास: उत्तर में*
*दिशाशूल – रविवार को पश्चिम दिशा और नैऋत्य कोण का दिशाशूल होता है यदि यात्रा अत्यंत आवश्यक हो तो ताम्बूल का सेवनकर प्रस्थान करें।*

*🌹आज का व्रत त्योहार🌹*

*संकष्टी श्री गणेश चतुर्थी व्रत।*

*⛅व्रत पर्व विवरण – एकदंत संकष्ट चतुर्थी*
*⛅विशेष – तृतीया को परवल खाना शत्रुवृद्धि करता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*

*🔸संकष्ट चतुर्थी – 25 मई 2024🔸*

*🔸क्या है संकष्ट चतुर्थी ?*

*🔹संकष्ट चतुर्थी का मतलब होता है संकट को हरने वाली चतुर्थी । संकष्ट संस्कृत भाषा से लिया गया एक शब्द है, जिसका अर्थ होता है ‘कठिन समय से मुक्ति पाना’।*

*🔹इस दिन व्यक्ति अपने दुःखों से छुटकारा पाने के लिए गणपति की अराधना करता है । पुराणों के अनुसार चतुर्थी के दिन गौरी पुत्र गणेश की पूजा करना बहुत फलदायी होता है । इस दिन लोग सूर्योदय के समय से लेकर चन्द्रमा उदय होने के समय तक उपवास रखते हैं । संकष्ट चतुर्थी को पूरे विधि-विधान से गणपति की पूजा-पाठ की जाती है ।*

*🔸संकष्ट चतुर्थी पूजा विधि🔸*

*🔹गणपति में आस्था रखने वाले लोग इस दिन उपवास रखकर उन्हें प्रसन्न कर अपने मनचाहे फल की कामना करते हैं ।*

*👉 इस दिन आप प्रातः काल सूर्योदय से पहले उठ जाएँ ।*

*👉 व्रत करने वाले लोग सबसे पहले स्नान कर साफ और धुले हुए कपड़े पहन लें । इस दिन लाल रंग का वस्त्र धारण करना बेहद शुभ माना जाता है और साथ में यह भी कहा जाता है कि ऐसा करने से व्रत सफल होता है ।*

*👉 स्नान के बाद वे गणपति की पूजा की शुरुआत करें । गणपति की पूजा करते समय जातक को अपना मुंह पूर्व या उत्तर दिशा की ओर रखना चाहिए ।*

*👉 सबसे पहले आप गणपति की मूर्ति को फूलों से अच्छी तरह से सजा लें ।*

*👉 पूजा में आप तिल, गुड़, लड्डू, फूल ताम्बे के कलश में पानी, धुप, चन्दन , प्रसाद के तौर पर केला या नारियल रख लें ।*

*👉 ध्यान रहे कि पूजा के समय आप देवी दुर्गा की प्रतिमा या मूर्ति भी अपने पास रखें । ऐसा करना बेहद शुभ माना जाता है ।*

*👉 गणपति को रोली लगाएं, फूल और जल अर्पित करें ।*

*👉 संकष्टी को भगवान् गणपति को तिल के लड्डू और मोदक का भोग लगाएं ।*

*👉 गणपति के सामने धूप-दीप जला कर निम्लिखित मन्त्र का जाप करें ।*

*गजाननं भूत गणादि सेवितं, कपित्थ जम्बू फल चारू भक्षणम्।*
*उमासुतं शोक विनाशकारकम्, नमामि विघ्नेश्वर पाद पंकजम्।।*

*👉 पूजा के बाद आप फल फ्रूट्स आदि प्रसाद सेवन करें ।*

*👉 शाम के समय चांद के निकलने से पहले आप गणपति की पूजा करें और संकष्ट व्रत कथा का पाठ करें ।*

*👉 पूजा समाप्त होने के बाद प्रसाद बाटें । रात को चाँद देखने के बाद व्रत खोला जाता है और इस प्रकार संकष्ट चतुर्थी का व्रत पूर्ण होता है ।*

._*🙏🌞 आत्मबोध 🌞🙏*

*अपने जीवन में सहनशीलता का गुण विकसित करें। अधीर न हों। परिस्थितियाँ कैसी भी हों, धैर्य रखें। समय कितना भी कठिन क्यों न हो, समय कितना भी अच्छा क्यों न हो, दोनों ही बीत जाएँगे, लेकिन आपकी चेतना बनी रहेगी। परिस्थितियाँ आपके साथ सदैव नहीं रहेंगी, लेकिन आपका ईश्वर आपके साथ रहेगा,ऐसी समझ रखें।*

*🌷🥀स्नेह वंदन🥀🌷*
*समाज रुपी ईश्वर के सेवा में सदैव अग्रणी ज्योतिषीय संस्थान ( सभी *तरह के ग्रह शांति निवारण ,रत्न*
*सलाह , ग्रह से संबंधित सभी समस्या समाधान,जन्मकुंडली के विशेष अनुभवी)*

 

🌷विशेष – *किसी विशिष्ट समस्या ,तंत्र -मंत्र -किये -कराये -काले जादू -अभिचार ,नकारात्मक ऊर्जा प्रभाव, ग्रह बाधा, शत्रु बाधा आदि सभी* *तरह के ग्रह शांति निवारण ,रत्न*

*किसी विशिष्ट समस्या ,तंत्र -मंत्र -किये -कराये -काले जादू -अभिचार ,नकारात्मक ऊर्जा प्रभाव, ग्रह बाधा, प्रेत बाधा शत्रु बाधा आदि सभी* *तरह के ग्रह शांति निवारण कोर्ट कचहरी, दाम्पत्य, संतान बाधा, रत्न*सलाह , तांत्रोक्त एवं ग्रह से संबंधित सभी समस्या समाधान,केलिए सम्पर्क करें*
.🌷🌷🌷🌷🌷🌷

 

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
**ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया।*
*सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःखभाग् भवेत्।।*‌

*🙏जय मां भैरवी 🙏*
*🙏जय महाकाल 🙏*
*🙏जय मां कामाख्या 🙏*
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
*🤷🏻‍♀ *_आज जिन भाई-बहनों का जन्मदिन या शादी की सालगिरह है उन सभी भाई-बहनों को हार्दिक शुभकामनाएँ_।*
*🙏विलंब के लिए खेद है* 🙏

*आपका दिन मंगलमय हो*
*कामाक्षी काली पुत्र आचार्य ब्रजेश मिश्र (ब्रह्मानन्द अघोर, संकटहरण,संटीयाबाबा)तंत्र एवं ज्योतिष*सम्पर्क नं 7992327070*
*आपका दिन मंगलमय*
🍁🍂💐🌾🌻🌞🌷🌹🥀🪻🪷🌼

 

*॥ जय श्री राधे कृष्ण ॥*

🍁🍂💐🌾🌻🌞🌷🌹🥀🪻🪷🌼
🐚
🍁🍂💐🌾🌻🌞🌷🌹🥀🪻🪷🌼

🍁🍂💐🌾🌻🌞🌷🌹🥀🪻🪷🌼
🍁🍂💐🌾🌻🌞🌷🌹🥀🪻🪷🌼

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button