रोहतास : शहीद जवान को दी गई अंतिम विदाई..

breaking News अपराध ताजा खबर देश प्रमुख खबरें राज्य

65 वर्षीय वृद्ध पिता रामनाथ सिंह यादव ने गर्व से अपने पुत्र को सलामी दी।दादा को सलामी देते देख, 12 वर्षीय पोते ने भी अपने शहीद पिता को सेल्यूट करके विदा किया।

पटना-बिहार/शिव ओझा रोहतास पाकिस्तानी सैनिकों के साथ मुठभेड़ में शहीद जिले के गोपी बिगहा का लाल रवि रंजन कुमार का पार्थिव शरीर गुरुवार को सूअरा हवाई अड्डा जैसे ही पहुंची, की जब तक सूरज चांद रहेगा रविरंजन तेरा नाम रहेगा, पाकिस्तान मुर्दाबाद आतंकवाद हो बर्बाद, भारत माता की जय जैसे गगनभेदी नारे तब तक लगते रहे जब तक की पार्थिव शरीर को गार्ड ऑफ ऑनर की सलामी से लेकर शहीद के घर तक पहुंचा।सुबह से ही पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों और युवाओं का हुजूम सुअरा हवाई अड्डा पहुंच रहा था।जहां पहले से तैनात सेना के जवानों को देख खासकर युवाओं में देशभक्ति का ऐसा जज्बा जगा, कि हर कोई हाथ में तिरंगा लहराते हुए शहीद रवि रंजन अमर रहे का नारा लगाते रहे।

शव पहुंचते ही हर तरफ दिखा राष्ट्रभक्ति का जोश

शहीद रवि रंजन का पार्थिव शरीर 10:28 पर सुअरा हवाई अड्डा पहुंचा।सेना के जवान जैसे ही अपने शहीद साथी रवि रंजन के पार्थिव शरीर को लेकर उसके घर पहुंचे।तो पत्नी रीना देवी चित्रकार मारकर रोते हुए कलेजा पीटने लगी।और सेना के जवानों को निहार रही थी।शहीद की पत्नी की चित्कार सुन पूरा गांव और उपस्थित लोग गमगीन हो गए।जब पिता ने पुत्र को दी सलामी-गुरुवार को गोपी बिगहा में शहीद रवि रंजन का पार्थिव शरीर जैसे ही गोपी बिगहा गांव पहुंचा।65 वर्षीय वृद्ध पिता रामनाथ सिंह यादव ने गर्व से अपने पुत्र को सलामी दी।दादा को सलामी देते देख, 12 वर्षीय पोते ने भी अपने शहीद पिता को सेल्यूट करके विदा किया।

अधिकारी व प्रतिनिधियों ने दी सलामी-

शहीद जवान का पार्थिव शरीर पहुंचने के पहले ही डीएम पंकज दीक्षित, एसपी सत्यवीर सिंह, एएसपी संजय कुमार, एसडीएम लाल नाग ज्योति सहदेव, सांसद महाबली सिंह, पूर्व मंत्री अनिता देवी, पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा, विधायक सत नारायण यादव समेत कई अन्य प्रतिनिधियों व पुलिस प्रशासनिक कर्मियों ने शहीद जवान को सलामी दी।तथा पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित किया।

जब गोपी बिगहा की भूमि भी पड़ गई कम-

शहीद सैनिक का पार्थिव शरीर जब उसके गांव पहुंचा।तो बंद क्रशर उद्योग की खाली पड़ी जमीन से लेकर गांव की गलियां भी कम पड़ गई।क्योंकि जिले भर के लोगों का हुजूम जो उमड़ा पड़ा था।चप्पे-चप्पे पर पुलिस की सुरक्षा और हर किसी के हाथों में तिरंगा झंडा देखते ही बनता था।ऐसा लग रहा था मानो पूरी देशभक्ति गोपी बिगहा के लिए उमड़ पड़ी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *