एससी एसटी एक्ट में फंसी बेटी के पक्ष में शुरू हुआ हस्ताक्षर अभियान…

breaking News अपराध देश राज्य

आखिर क्या हुआ उस दिन जो रितु जयसवाल को अंदर से झकझोर दिया। दरअसर बात यह है कि रितु को सूचना मिली कि उनके पंचायत का एक वार्ड अध्य्क्ष 3 मजदूरों को जबरन दूसरे पंचायत से काम के बहाने उठाकर लाए है एवं उन्हें छोड़ नही रहे है। सूचना को पाते ही मुखिया तत्काल सरपंच को इसकी सूचना दी और वह वार्ड के अध्य्क्ष के घर के लिए निकल गयी। वहां अध्य्क्ष साहब तो नही थे लेकिन एक मजदूर मिला जो बार बार घर जाने की जिद कर रहा था उसे लेकर वह अपनी गांव की तरफ आना चाह ही रही थी कि अचानक पुल पर करीब 15 की संख्या में वार्ड अध्य्क्ष एवं कुछ महिलाएं उनकी पत्नी सहित गाड़ी को रोक लिया एवं जबरन हाथ खींचते हुए मुखिया को गाड़ी से बाहर निकाला। मुखिया अचंभित हो गयी कि हो क्या रहा है और जबरदस्ती पुल के किनारे की तरफ उनको खींचा जाने लगा। बेचारी डरी सहमी मुखिया चिल्लाने लगी तो कुछ ग्रामीण वहाँ पहुँच गए जो वहाँ से मुखिया को सुरक्षित निकाल कर गाड़ी में बैठा दिए । मुखिया रितु ने वहाँ से निकल कर उसी रात पटना अपने रिश्तेदार के यहाँ चली आई एवं रूपसपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई। इसी बीच वह वार्ड अध्य्क्ष मुखिया के ऊपर एससी एसटी एक्ट के केश कर देता है कि रितु मुखिया मेरे साथ गाली गलौज एवं जाति सूचक शब्द बोलते हुए मारपीट की। जबसे लाइसेंसी हथियार मिला है तब से मुखिया का रुतबा ज्यादती और बढ़ गया है।गौरतलब हो कि मुखिया रितु के पास कोई लाइसेंसी हथियार की बात तो दूर आर्म्म्स एक्ट के भी लाइसेंस नही है।आइये आपको रितु जयसवाल के बारे में कुछ ऐसी बातों से आवगत कराते है जिसे आपको भी जानना जरूरी होगा।अपनी ऐशो आराम की जिंदगी छोड़ लोगो की सेवा को प्राथमिकता को देते हुए रितु जयसवाल ने अपने पिछड़ी हुई पंचायत सिहवाहिनी को देश के मानस पटल पर लाने का कार्य किया है।सबसे पहले वह अपने पंचायत के लोगों को जागरूक करने का कार्य किया,दलित महादलित के बच्चे को खुद से बाल काटती, शैम्पू लगाती उनको शिक्षा एवं स्वास्थ्य के लिए जागरूक करके उनकी उचित शिक्षा व्यवस्था मुहैया कराते नजर आ जाती है।बच्चे के बीच दलित बस्ती में जाकर फ़िल्म दिखाती एवं लोगों को इसका महत्व बताती है। मुखिया रितु जयसवाल का मानना है कि शिक्षा ही किसी मनुष्य का सर्वांगीण विकास कर सकता है ,इसके लिए दिन रात अपने पंचायत में लोगों को जागरूक कर एक नया मुहिम छेड़ रखा है।अपने पिछड़े पंचायत को अपने अल्प कार्यकाल में ही इतना कुछ कर दिया कि पूरा देश का ध्यान सिंहवाहिनी की ओर जाने लगा की आखिर रितु कर क्या रही है ।रितु बोलती कम करती ज्यादा है इसलिए दिन रात इनके फ्लोवर बढ़ते जा रहे है ,जो भी काम कर रही है सार्वजनिक कर रही है ,लोगो को जागरूक करके कर रही है ,यह कुछ लोगो को खटकने लगा की शायद 2019 लोकसभा में कही अपनी भाग्य न आजमा ले।यही वजह है कि मुखिया रितु जयसवाल को एससी एसटी एक्ट में फंसाया गया ताकि राजनीति में जाति हावी हो सके यह कहने में अतिशयोक्ति नही होगी।दिगर बात यह है कि रितु जयसवाल पर एससी एसटी एक्ट लगने के बाद से ही उनके चाहने वालो में काफी आक्रोश है। वो जगह -जगह हस्ताक्षर अभियान के माध्यम से,सोशल साइट के माध्यम से लोगो के बता रहे है एवं अपनी बात को सरकार के आला अधिकारी से मंत्री तक पहुँचा रहे है कि जिन्होंने बिना भेदभाव के,जाति धर्म से ऊपर उठकर ,अपने आप के उस पिछड़ी पंचायत के पिछड़े हुए लोगो के बीच रखकर उनके विकास के लिए हमेशा से प्रयासरत है,और इस तरह की षड्यंत्र विरोधियों की चाल है।

Riport-shreedhar panday

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *