www.kewalsach.com | www.kewalsachtimes.com | www.ks3.org.in | www.shruticommunicationtrust.org
BREAKING NEWS
आइये जानते एक साधारण परिवार के ips अधिकारी की सफलता की कहानी…

आइये जानते एक साधारण परिवार के ips अधिकारी की सफलता की कहानी…

किशनगंज यह कहानी एक बहुत ही साधारण परिवार के बेटे की है जमुई के एक छोटे से गांव सिकंदरा (शायद आपने नाम सुना होगा) में पले बढे इस आईपीएस अधिकारी की सफलता More »

पर्यवेक्षिका स्व. पल्लवी के दहेज प्रताड़ना मामला में उसके पति को कोर्ट 3 साल का सजा सुनाया और 5 हजार रुपए का जुर्माना…

पर्यवेक्षिका स्व. पल्लवी के दहेज प्रताड़ना मामला में उसके पति को कोर्ट 3 साल का सजा सुनाया और 5 हजार रुपए का जुर्माना…

किशनगंज-पूर्व पर्यवेक्षिका ठाकुरगंज स्व० पल्लवी कुमारी के पति को 498A से सम्बंधित केस सं०-C1492 में मिली सजा,कोर्ट ने 3 साल की सजा और 5 हजार का जुर्माना लगाया है।जुर्मना नहीं देने पर More »

दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका…

दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका…

बिहार में सरकार बेटी-पढ़ाव बेटी बचाव के अभियान पर जोड़ दे रही है।तो दूसरी तरफ दरिंदे बेटियों का जिना मुहाल कर दिया है।मुजफ्फरपुर में आए दिन लगातार लड़कियों की हत्याएं बढ़ती ही More »

प्रेम प्रसंग मॆ युवक और युवती को जबरन पिलाया ज़हर, भीड़ बना रहा तमाशबीन, प्रशासन है बेखबर, सोशल मीडिया पर हुआ वीडियो वायरल…

प्रेम प्रसंग मॆ युवक और युवती को जबरन पिलाया ज़हर, भीड़ बना रहा तमाशबीन, प्रशासन है बेखबर, सोशल मीडिया पर हुआ वीडियो वायरल…

मानवता भी शर्मसार हो गया जब यह मामला प्रकाश मॆ आया।किस तरह दो प्रेमियों को ज़बरदस्ती ज़हर पिलाया गया।कोइ इस मौत परोसने वालो कॊ रोकने और टोकने वाला भी नही मिला।पुलिस या More »

संपादक को बिना वारंट गिरफ्तार करने रांची पहुँच गई नालंदा पुलिस…

संपादक को बिना वारंट गिरफ्तार करने रांची पहुँच गई नालंदा पुलिस…

बिहार के मुखिया राज्य में कानून एवं न्याय की शासन की दुहाई देते हैं लेकिन उनके ही जिले नालंदा की पुलिस नियम एवं कानून की धज्जी उड़ाने और अपनी भद्द पिटवाने झारखंड More »

 

सीडीपीओ शशिकला की प्रताड़ना नहीं झेल सकी पल्लवी,अपने जिंदगी से हिम्मत हारकर फांसी के फंदे में झूलकर मौत को गले लगा ली पल्लवी…

किशनगंज के ICDS विभाग में कार्यरत एक महिला पर्यवेक्षिका ने जिंदगी की जंग लड़ते लड़ते थक चुकी थी।न तो अपने जीवन साथी का साथ मिला और न ही अपने अधिकारी का…प्रताड़ना इतना था की आखिरकार अपने जिंदगी से हिम्मत हारकर,फांसी के फंदे में झूलकर मौत को गले लगा ली।आपको बताते चले की दिनांक-11.04.2018 सुबह उसका शव दुपट्टे के सहारे फांसी के फंदे से लटका मिला।घटना स्थल पर पहुंची पुलिस ने जांच के दौरान कमरे से एक सुसाइड नोट बरामद की।जिसमें सीडीपीओ शशिकला सिंह द्वारा प्रताड़ित किए जाने का उल्लेख किया गया है।इसकी जानकारी मिलते ही स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन करते हुए सीडीपीओ के विरूद्ध कार्रवाई की मांग करने लगे।आपको बताते चले की बादल के गरजने की आवाज सुनकर नींद से जगी नौ वर्षीय मासूम प्राची सिंह पास के कमरे में रोती हुई अपनी मां के पास गई।वहां जाकर देखा कि उसकी मम्मी पंखे से लटकी हुई है।वो भाग कर नानी के कमरे में गई और उसे 

जगाया।वृद्ध नानी भागकर अपनी बेटी के कमरे में पहुंची तो देखा उसकी बेटी महिला पर्यवेक्षिका पल्लवी कुमारी (35) का शव पंखे से लटक रहा है।माजरा देखकर वो चीखते हुए वहीं बेहोश होकर गिर गई।तब तक घर के अन्य सदस्य जग गए।मृतका ने आत्महत्या के पूर्व सुसाइड नोट लिख छोड़ा है जिसे पुलिस ने जब्त कर लिया है।मृतक महिला के कमरे से मिला सुसाइड नोट में उल्लेख किया गया कि सीडीपीओ के प्रताड़ना से वो तंग आ चुकी थी।परिजनों ने कहा कि पल्लवी बताती थी कि वो जब-जब कुछ अच्छा करने की कोशिश करती थी तो प्रेशर डाला जाता था।इधर घटना के बाद से ही सीडीपीओ का मोबाइल स्विच ऑफ रहा।जानकारी के अनुसार पल्लवी पूर्व में ठाकुरगंज में तैनात थी।सीडीपीओ शशिकला सिंह के द्वारा प्रताड़ित किए जाने के बाद उसने अपना तबादला दिघलबैंक करा लिया था।परंतु कुछ ही दिनों के बाद शशिकला सिंह को दिघलबैंक सीडीपीओ का भी प्रभार सौंप दिया गया।इसके बाद

पति के द्वारा हाथ छोड़ने के बाद ही उसे ICDS विभाग में महिला पर्यवेक्षिका के पद पर नौकरी मिली।किशनगंज के ठाकुरगंज प्रखंड स्थित ICDS विभाग में पल्लवी पदस्थापित थी।लेकिन उसे वहां चैन नही मिला।वहां भी उसे CDPO शशी कला के द्वारा प्रताड़ना किया जाता था,जिसका विरोध कर पल्लवी ने लिखित शिकायत अपने विभाग और जिला पदाधिकारी को दिया था।जिला पदाधिकारी ने मामले पर कार्रवाई कर पल्लवी को जिले के दिघलबैंक प्रखंड में स्थांतरित कर दिया लेकिन संयोग था की वहां भी कुछ दिनों के बाद CDPO शशिकला को दिघलबैंक प्रखंड में CDPO का अतिरिक्त प्रभार मिला।अब तो पल्लवी पर CDPO शशिकला का प्रताड़ना और भी बढ़ गया।प्रताड़ना इतना था की पल्लवी को अपने पद से स्वेक्षा से इस्तीफा देना पड़ा।जिसके बाद आर्थिक तंगी से गुजर रही पल्लवी को आत्महत्या करना पड़ा।CDPO शशिकला का आतंक इतना है की दुसरे महिला पर्यवेक्षिका भी उसके खिलाफ जिला प्रशासन से शिकायत कर चुकी है।

एक बार फिर से प्रताड़ना का दौर शुरू हो गया।शशिकला सिंह द्वारा प्रताड़ित होने के कारण वह गत डेढ़ वर्षों से वरीय पदाधिकारियों के समक्ष न्याय की गुहार लगाती रही।लेकिन उसकी आवाज दबा दी गई।आखिरकार शशिकला के व्यवहार से तंग आकर पल्लवी ने छह माह पूर्व नौकरी से त्यागपत्र दे दिया। इधर मृतका का पति के साथ भी विवाद चल रहा था।बिहार पुलिस में कार्यरत अजय कुमार सिंह की फिलहाल औरंगाबाद जिले में पदस्थापित है।पति के साथ विवाद की वजह से वह मायके में रहकर अपने दोनों बच्चों को पढ़ा रही थी तथा पति से तलाक को लेकर न्यायालय में मामला भी चल रहा है।मौके पर मौजूद एसडीएम मो. शफीक,एसडीपीओ कामिनी बाला, बीडीओ ओम प्रकाश,सीओ रमण कुमार सिंह,सर्किल इंस्पेक्टर पीके राय,थानाध्यक्ष आफताब अहमद परिजनों व आक्रोशित लोगों को समझाने का प्रयास करते रहे।वहां पहुंचे जदयू विधायक मुजाहिद आलम ने इसे जिला प्रशासन की लापरवाही के कारण हुई मौत बताया।अंतत:दोषी पर विधिसम्मत कार्रवाई के आश्वासन के बाद लोग माने।आप गौर करे की ठाकुरगंज में पदस्थापित पल्लवी एवं अन्य कई महिला पर्यवेक्षिका ने डीएम को आवेदन

सीडीपीओ शशिकला सिंह (फाइल फोटो)

देकर अन्यत्र तबादले की गुहार लगाई थी।डीएम ने भी पल्लवी का तबादला दिघलबैंक कर दिया।संयोग ऐसा रहा कि दिघलबैंक के सीडीपीओ का तबादला हुआ और वहां का प्रभार भी ठाकुरगंज सीडीपीओ शशिकला को मिल गया।फिर पल्लवी पर प्रताड़ना का दौड़ शुरू हो गया।पल्लवी ने शिकायत की तो उसके ऊपर थाने में एससी/एसटी एक्ट का मामला दर्ज करवा दिया गया।डीएम पंकज दीक्षित ने कहा कि सारे प्रकरण की जांच का आदेश दे दिया गया है।पल्लवी की सीडीपीओ को लेकर की गई शिकायत की जांच जारी है।शशिकला के ऊपर लगे आरोप से संबंधित कागजात आईसीडीएस विभाग को भेज दिया गया है।19 मार्च 2018 को जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक हुई।जिलांतर्गत पदस्थापित एवं कार्यरत महिला पर्यवेक्षिकाओं को पुन: अनुबंध बढाने पर मंथन किया गया था।इसी बैठक में महिला पर्यवेक्षिका पल्लवी के अतिरिक्त पूजा कुमारी, प्रतिभा कुमारी पर भी चर्चा हुई।प्रतिभा कुमारी पर आरोप था कि मातृत्व अवकाश के बाद भी योगदान नहीं किया।वहीं पूजा कुमारी

पर दो महीने तक योगदान नहीं करने का आरोप था।इतने के बावजूद इन पर कार्रवाई नहीं हुई और इन्हें बहाल कर दिया गया।लेकिन दिघलबैंक की सीडीपीओ शशिकला द्वारा किए गए अनुशंसा पर पल्लवी के खिलाफ कार्रवाई कर दी गई।पूरे मामले में सीडीपीओ शशिकला सिंह से प्रतिक्रिया लेने की कोशिश की गई।बार-बार उनके मोबाइल नंबर पर संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन हर बार उनका मोबाइल स्विच ऑफ मिला।पुलिस अधीक्षक राजीव मिश्रा ने कहा कि मामला दर्ज कर लिया गया है।सुसाइड नोट में दो तरह की बातें सामने आ रही है।जिसका खुलासा किन्हीं कारणों से हम अभी नहीं कर सकते।हम हर बिंदु पर जांच कर रहे हैं।एसएचओ को सभी बिंदुओं पर जांच कर विधिसम्मत कार्रवाई का निर्देश दिया गया है।पल्लवी कुमारी के पास से पुलिस को तीन अलग-अलग सुसाइड नोट मिले हैं।जिनमें से केवल सच के पास उक्त सभी सुसाइड नोट की कॉपी है।सुसाइड नोट में पल्लवी ने लिखा है कि सीडीपीओ शशिकला के कारण मैं पूरे जिले में चर्चा का विषय बन गई थी।हर कोई मेरे चरित्र पर छींटाकशी कर रहा था।श्रीमान (एसपी) से निवेदन है कि जांच के नाम पर परेशान न किया जाए।मेरे परिवार

प्राची सिंह अपनी माँ पल्लवी सिंह साथ (फाइल फोटो)

अगर विभाग इस पत्र पर विचार करता तो पल्लवी अभी जीवित रहती

वही कोचाधामन के लोकप्रिय विधायक मास्टर मुजाहिद आलम ने भी जिला प्रशासन पर उंगली उठाते हुए कहा की मृतिका के लिखित शिकायत पर विचार कर जिला प्रशासन के द्वारा संज्ञान में लिया जाता तो आज पल्लवी आत्मा हत्या के लिए मजबूर नही होती।उन्होंने पुरे मामले पर जिला प्रशासन को दोषी बताकर उनकी भूमिका पर भी जाँच की मांग किया है।

के लोगों के साथ,जो भी मेरा सहयोग दे रहे थे,उन्हें काफी परेशान किया जा चुका है।जदयू विधायक मुजाहिद आलम ने कहा कि सुसाइड नोट से सब साफ है।सीडीपीओ की करतूत की जानकारी सरकार को देंगे।अगर कार्रवाई होती तो महिला की जान नहीं जाती।इस घटना का जिम्मेवार जिला प्रशासन के अधिकारी हैं। 

रिपोर्ट-धर्मेन्द्र सिंह 

kewalsachlive.in । Updated Date: APRIL 13 2018 06:02PM

आंगनबाड़ी पर्यवेक्षिका की मौत का जिम्मेवार है सीडीपीओ शशिकला, कैंडल मार्च निकाल दिया श्रद्धांजलि…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *