www.kewalsach.com | www.kewalsachtimes.com | www.ks3.org.in | www.shruticommunicationtrust.org
BREAKING NEWS
आइये जानते एक साधारण परिवार के ips अधिकारी की सफलता की कहानी…

आइये जानते एक साधारण परिवार के ips अधिकारी की सफलता की कहानी…

किशनगंज यह कहानी एक बहुत ही साधारण परिवार के बेटे की है जमुई के एक छोटे से गांव सिकंदरा (शायद आपने नाम सुना होगा) में पले बढे इस आईपीएस अधिकारी की सफलता More »

पर्यवेक्षिका स्व. पल्लवी के दहेज प्रताड़ना मामला में उसके पति को कोर्ट 3 साल का सजा सुनाया और 5 हजार रुपए का जुर्माना…

पर्यवेक्षिका स्व. पल्लवी के दहेज प्रताड़ना मामला में उसके पति को कोर्ट 3 साल का सजा सुनाया और 5 हजार रुपए का जुर्माना…

किशनगंज-पूर्व पर्यवेक्षिका ठाकुरगंज स्व० पल्लवी कुमारी के पति को 498A से सम्बंधित केस सं०-C1492 में मिली सजा,कोर्ट ने 3 साल की सजा और 5 हजार का जुर्माना लगाया है।जुर्मना नहीं देने पर More »

दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका…

दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका…

बिहार में सरकार बेटी-पढ़ाव बेटी बचाव के अभियान पर जोड़ दे रही है।तो दूसरी तरफ दरिंदे बेटियों का जिना मुहाल कर दिया है।मुजफ्फरपुर में आए दिन लगातार लड़कियों की हत्याएं बढ़ती ही More »

प्रेम प्रसंग मॆ युवक और युवती को जबरन पिलाया ज़हर, भीड़ बना रहा तमाशबीन, प्रशासन है बेखबर, सोशल मीडिया पर हुआ वीडियो वायरल…

प्रेम प्रसंग मॆ युवक और युवती को जबरन पिलाया ज़हर, भीड़ बना रहा तमाशबीन, प्रशासन है बेखबर, सोशल मीडिया पर हुआ वीडियो वायरल…

मानवता भी शर्मसार हो गया जब यह मामला प्रकाश मॆ आया।किस तरह दो प्रेमियों को ज़बरदस्ती ज़हर पिलाया गया।कोइ इस मौत परोसने वालो कॊ रोकने और टोकने वाला भी नही मिला।पुलिस या More »

संपादक को बिना वारंट गिरफ्तार करने रांची पहुँच गई नालंदा पुलिस…

संपादक को बिना वारंट गिरफ्तार करने रांची पहुँच गई नालंदा पुलिस…

बिहार के मुखिया राज्य में कानून एवं न्याय की शासन की दुहाई देते हैं लेकिन उनके ही जिले नालंदा की पुलिस नियम एवं कानून की धज्जी उड़ाने और अपनी भद्द पिटवाने झारखंड More »

 

जानिये माँ दुर्गा की प्रथम शक्ति से नवीं शक्ति….

हिन्दू धर्म में देवी-देवताओं से जुड़े सभी तथ्य बेहद रोचक हैं…यदि आप हिन्दू धर्म के बारे में अधिक जानकारी नहीं रखते तो शायद समझ ना पाएं।लेकिन यदि आपकी थोड़ी भी रुचि है तो एक बार देवी-देवताओं के बारे में जरूर जानें।उनसे जुड़ी कहानियां,उनका स्वरूप,वे कैसे दिखते थे,कैसे शस्त्र पकड़ते थे और किस वाहन की सवारी करते थे यह भी अति दिलचस्प है।भगवान शिव के वाहन नंदी,गणेश जी के वाहन मूषक,मां दुर्गा के वाहन शेर एवं भगवान सूर्य के वाहन सात घोड़े हैं।क्या आप जानते हैं कि सूर्य देव एक या दो नहीं,बल्कि पूरे सात घोड़ों की सवारो क्यों करते हैं।दरअसल इसके पीछे धार्मिक के साथ-साथ वैज्ञानिक उद्देश्य भी छिपा है।कहते हैं इन सातो घोड़ों का एक खास उद्देश्य था,सभी के पास एक खास ऊर्जा थी। वैज्ञानिक दृष्टि से इन सात घोड़ों को सूर्य की सात किरणों का नाम दिया जाता है।इसी तरह से भगवान शिव एवं गणेश जी या अन्य किसी भी हिन्दू देवी-देवता को मिले वाहन के पीछे एक दिलचस्प कहानी है।आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी बताने जारहे हैं जो देवी दुर्गा एवं उनके वाहन शेर से जुड़ी है।शक्ति का रूप दुर्गा,जिन्हें सारा जगत मानता

माँ दुर्गा पहले स्वरूप में ‘शैलपुत्री…

नवदुर्गा के दूसरे स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा…

है…ना केवल कोई साधारण मनुष्य,वरन् सभी देव भी उनकी अनुकम्पा से प्रभावित रहते हैं।एक पौराणिक आख्यान के अनुसार मां दुर्गा को यूं ही शेर की सवारी प्राप्त नहीं हुई थी,इसके पीछे एक रोचक कहानी बनी है।आदि शक्ति,पार्वती, शक्ति…आदि नाम से प्रसिद्ध हैं मां दुर्गा।

तीसरे दिन:-शांतिदायक और कल्याणकारी है माता चंद्रघंटा

धार्मिक इतिहास के अनुसार भगवान शिव को पतिक रूप में पाने के लि्ए देवी पार्वती ने हजारों वर्ष तक तपस्या की।कहते हैं उनकी तपस्या में इतना तेज़ था जिसके प्रभाव से देवी सांवली हो गईं।इस कठोर तपस्या के बाद शिव तथा पार्वती का विवाह भी हुआ एवं संतान के रूप में उन्हें कार्तिकेय एवं गणेश की प्राप्ति भी हुई।

नवरात्रि के चौथे दिन होती है मां कूष्माण्डा की पूजा, उपासना से दूर होते हैं रोग

माता का पंचम स्वरूप स्कन्दमाता के नाम से है प्रसिद्ध…

एक कथा के अनुसार भगवान शिव से वि्वाह के बाद एक दिन जब शिव,पार्वती साथ बैठे थे तब भगवान शिहव ने पार्वती से मजाक करते हुए काली कह दिया।देवी पार्वती को शिंव की यह बात चुभ गई और कैलाश छोड़कर वापस तपस्या करने में लीन हो गईं।

नवरात्रि के छठे दिन आदिशक्ति श्री दुर्गा के छठे रूप माता कात्यायनी की पूजा-अर्चना…

इस बीच एक भूखा शेर देवी को खाने की इच्छा से वहां पहुंचा।लेकिन तभी शिव वहां प्रकट हुए और देवी को गोरे होने का वरदान देकर चले गए।थोड़ी देर बाद माता पार्वती भी तप से उठीं और उन्होंने गंगा स्नान किया।ले‌किन चमत्कार तो देखिए…

माता दुर्गा की सातवीं शक्ति है कालरात्रि…

देवी को तपस्या में लीन देखकर वह वहीं चुपचाप बैठ गया।ना जाने क्यों शेर देवी के तपस्या को भंग नहीं करना चाहता था।वह सोचने लगा कि देवी कब तपस्या से उठें और वह उन्हें अपना आहार बना ले।इस बीच कई साल बीत गए लेकिेन शेर अपनी जगह डटा रहा।कई वर्ष बीत गए लेकिन माता पार्वती अभी भी तपस्या में मग्न ही थीं,

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति है महागौरी…

वे तप से उठने का फैसला किसी भी हाल में लेना नहीं चाहती थीं।स्नान के तुरंत बाद ही अचानक उनके भीतर से एक और देवी प्रकट हुईं।उनका रंग बेहद काला था।उस काली देवी के माता पार्वती के भीतर से निकलते ही देवी का खुद का रंग गोरा हो गया।

माँ दुर्गा की नवम् रूप श्री सिद्धिदात्री…

इसी कथा के अनुसार माता के भीतर से निकली देवी का नाम कौशिकी पड़ा और गोरी हो चुकी माता सम्पूर्ण जगत में ‘माता गौरी’ कहलाईं।स्नान के बाद देवी ने अपने निकट एक सिंह को पाया,जो वर्षों से उन्हें खाने की ललक में बैठा था।

आद्या शक्ति के विभिन्न रूपों में दस महाविद्याओं का संक्षिप्त परिचय तथा वर्णन

लेकिन देवी की तरह ही वह वर्षों से एक तपस्या में था,जिसका वरदान माता ने उसे अपना वाहन बनाकर दिया।देवी उस सिंह की तपस्या से अति प्रसन्न हुई थीं,इसलिए उन्होंने अपनी शक्ति से उस सिंह पर नियंत्रण पाकर उसे अपना वाहन बना लिया।

रिपोर्ट-धर्मेन्द्र सिंह 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *