रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को नॉमिनेशन भरा। इस मौके पर आडवाणी, मोदी और अमित शाह समेत 20 मुख्यमंत्री मौजूद…

breaking News देश राज्य

राष्ट्रपति चुनाव से पहले एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद देशभर का दौरा करेंगे।इलेक्टोरल कॉलेज से सपोर्ट के लिए वह सबसे पहले रविवार को लखनऊ पहुंचेंगे।यहां वे सीएम योगी आदित्यनाथ और बीजेपी-सहयोगी पार्टियों के विधायकों के अलावा दूसरी पार्टियों के बड़े नेताओं से भी मुलाकात करेंगे।बीजेपी ने दावा किया है कि कोविंद को नीतिश कुमार के जेडीयू समेत 28 पार्टियों का सपोर्ट मिल चुका है।दलिल V/S दलित मुकाबले के लिए यूपीए ने पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार को कोविंद के सामने उतारा है।राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग 17 जुलाई को होगी, नतीजों का एलान 20 को होगा।कोविंद राजभवन जाकर गवर्नर राम नाईक से भी मिलेंगे।2 दिन कैम्पेन करने के बाद सोमवार को दिल्ली लौट जाएंगे।बता दें कि यूपी में इलेक्टोरल 

कॉलेज के सबसे ज्यादा विधायक, सांसद (राज्यसभा-लोकसभा) और विधान परिषद् के मेंबर हैं।सीएम योगी ने कहा है कि यूपी के लिए यह गर्व की बात है कि प्रदेश का बेटा राष्ट्रपति बनेगा। कोविंद का घर कानपुर देहात में है।लक्ष्मीकांत वाजपेयी के यूपी बीजेपी प्रेसिडेंट रहते कोविंद को पार्टी का जनरल सेक्रेटरी बनाया गया था।तब वे करीब 2 साल तक लखनऊ में ही रहे और काफी एक्टिव थे।इसके बाद कोविंद पार्टी की सेंट्रल यूनिट में चले गए।नरेंद्र मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद उन्हें बिहार का गवर्नर बनाया गया।कितने वोट जरूरी…आपको बताते चले की किसी भी दल को अपनी पसंद का प्रेसिडेंट बनाने के लिए 50% यानी 5,49, 442 वोटों की जरूरत है।

  • कुल-MLAs:-4114
    कुल-MPs:-776
    MLAs की वोट वैल्यू:-5,49,474
    MPs की वोट वैल्यू:-5,48,408
    टोटल वोट वैल्यू:-10,98,882
राष्ट्रपति चुनाव का शेड्यूल…
  • नॉमिनेशन दाखिल करने की आखिरी तारीख:-28 जून
    नॉमिनेशन की स्क्रूटनी:-29 जून
    नॉमिनेशन वापस लेने की आखिरी तारीख:-1 जुलाई
    वोटिंग (जरूरत पड़ने पर17 जुलाई, सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे
    काउंटिंग (जरूरत पड़ने पर) 20 जुलाई, सुबह 11 बजे से
अभी क्या है पोजिशन ?
NDA:-लोकसभा, राज्यसभा, स्टेट असेंबली को मिलाकर टोटल 5,27,371 वोट होते हैं। कोविंद के एलान से पहले एनडीए का टोटल वोट पर्सेंटेज 48.10% था।
UPA:-साझा कैंडिडेट उतारने की स्थिति में सभी अपोजिशन पार्टियां एक हो जाती हैं तो टोटल वोट 5,68,148 होंगे यानी करीब 51.90%।
NDA कितनी मजबूत हुई ?
एलान से पहले: 48.10% वोट्स, अब इन पार्टियों का सपोर्ट ?
  • TRS:-1.99%
    AIADMK:-5.39%
    YSR कांग्रेस:-1.53%
    JDU:-1.89%
    BJD:-2.99%
एलान के बाद NDA के पास कितने वोटों का सपोर्ट: 61.89% UPA कितना कमजोर हुआ ?
कोविंद के एलान से पहले अपोजिशन एकजुट होने पर 51.90% वोट थे।लेकिन जेडीयू (1.89%) ने एनडीए को सपोर्ट का एलान किया।अब यूपीए का वोट पर्सेंटेज 50.01% रह गया है।मीरा कुमार के आने से कितना फायदा ? मीरा कुमार के आने के बाद UPA को BSP ने सपोर्ट कर दिया है।मायावती कह चुकी हैं कि कोई मजबूत दलित कैंडिडेट मिलने पर वो उसे सपोर्ट करेंगी।SP, AAP और INDL का सपोर्ट मिलने की भी उम्मीद है।अभी UPA:-50.01% सपोर्ट मिला BSP:-0.74% 
  • इनका सपोर्ट मिलने की उम्मीद
    SP:-2.36%
    AAP:0.82%
    INDL:0.38% 
  • सपोर्ट मिला तो कितनी मजबूती ?
    UPA:54.31%
 
ऐसे होगा राष्ट्रपति चुनाव…
  • 4896 वोटर राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा ले सकेंगे।इनमें 4120 MLAs और 776 MPs शामिल हैं।20 AAP के विधायकों के खिलाफ हाउस ऑफ प्रॉफिट के मामले में केस चल रहा है,लेकिन इलेक्शन कमीशन का कहना है कि आज की बात करें तो ये लोग वोट डाल सकेंगे।12 नॉमिनेटेड राज्यसभा मेंबर्स भी वोट नहीं डाल सकेंगे।इसके अलावा,लोकसभा में दो एंग्लो-इंडियन कम्युनिटी के नॉमिनेटेड मेंबर्स भी वोट नहीं डाल सकेंगे।10 खाली सीटें हैं राज्यसभा की,जिनके लिए चुनाव की घोषणा राष्ट्रपति चुनाव के बाद ही की जाएगी।
एक सीनियर अफसर ने बताया कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए सभी जरूरी इंतजाम कर लिए गए हैं।शुक्रवार को इलेक्शन कमीशन की एक टीम ने भी विधानसभा का दौरा कर तैयारियों का जायजा लिया।ऐसा पहली बार होगा कि वोट डालने के लिए स्पेशल पेन और इंक दिल्ली से लखनऊ लाई गई है।चुनाव में वोटर्स अपनी पसंद के उम्मीदवार के आगे निशान लगाते हैं,जिसकी बाद में गिनती होती है।रामनाथ कोविंद v/s मीरा कुमार रामनाथ कोविंद:-सादगीभरी छवि, कानून के जानकार, संविधान की समझ (बिहार के गवर्नर रहे), कैंडिडेट के तौर पर दलित चेहरा। दो चुनाव लड़े, लेकिन हार गए।मीरा कुमार:साफ-सुथरी छवि, कानून की जानकार, संविधान की जानकारी (लोकसभा स्पीकर रहीं) विदेश नीति की जानकारी (इंडियन फॉरेन सर्विस में रहीं) दलित चेहरा और पूर्व डिप्टी पीएम जगजीवन राम की बेटी।रामविलास पासवान और मायावती जैसे बड़े दलित लीडर्स को चुनाव में हराया।करोलबाग से 3 बार MP भी रहीं।

रिपोर्ट-वरिष्ठ पत्रकार यूपी से…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *