www.kewalsach.com | www.kewalsachtimes.com | www.ks3.org.in | www.shruticommunicationtrust.org
BREAKING NEWS

लालू यादव और तेजस्वी यादव खुद बताएं कि बालू माफिया से उनके क्या संबंध हैं और उनके फ्लैट्स किसने खरीदे हैं ? पिछली सरकार में आरजेडी के थे खनन मंत्री:-सुशील मोदी ।

भाजपा नेता और बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि लालू यादव का बालू माफिया से संबंध है।सुशील मोदी ने कहा कि आयकर विभाग के छापे के बाद लालू को डर लग रहा है कि उनकी संपत्ति अटैच्ड की जा सकती है।अगर ऐसा होता है तो लालू उन्हें बेच नहीं पाएंगे।इस डर से वह अपनी संपत्तियों को बेच रहे हैं।ये संपत्तियां बालू माफिया खरीद रहे हैं।सुशील मोदी ने कहा कि पटना, सारण, अरवल, वैशाली, जहानाबाद और भोजपुर जिले में बालू खनन के लिए तीन कंपनियों ब्रॉडशन,वंशीधर और मोरमुकुट को 237 करोड़ रुपए में ठेका मिला है।ठेके की आड़ में तीनों कंपनियां अवैध माइनिंग कर रही थी।तीनों कंपनियों के कर्ताधर्ता सुभाष यादव हैं।सुभाष यादव लालू के करीबी हैं और उनके दायां हाथ कहे जाते हैं।लालू की रैली हो या पार्टी चलाना।सुभाष इसके लिए फंड की व्यवस्था करते हैं।सुशील मोदी ने कहा कि लालू ने अपनी कंपनी के माध्यम से औने-पौने दाम में पटना में जमीन खरीदी।बिल्डर से कॉन्ट्रैक्ट कर इस जमीन पर मां मरीछिया देवी अपार्टमेंट बनाया गया।इस अपार्टमेंट में लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी के 18 फ्लैट हैं।आयकर विभाग की छापेमारी के बाद जब कोई उनकी संपत्ति खरीदने की हिम्मत नहीं कर रहा था तो सुभाष यादव ने एक ही दिन में 1.72 करोड़ रुपए में तीन फ्लैट खरीदा।सुमो ने कहा कि पिछली सरकार में माइन्स मंत्री आरजेडी के थे। लालू ने बहुत दबाव देकर इस मंत्रालय को प्राप्त किया था।नोटबंदी के बाद बड़ी संख्या में सुभाष यादव की कंपनी में 1000 और 500 रुपए के नोट जमा किए गए। लालू परिवार का बालू माफिया से संबंध है। ये लोग लालू के काले धन को एकत्रित करते हैं।सुमो ने कहा कि मैं आयकर विभाग को बालू खनन में लगी इन तीन कंपनियों की जांच करने के लिए पत्र लिखूंगा। इसके साथ ही बिहार सरकार अपने स्तर पर भी जांच करेगी।लालू यादव और तेजस्वी यादव खुद बताएं कि बालू माफिया से उनके क्या संबंध हैं और उनके फ्लैट्स किसने खरीदे हैं ? अगर वे नहीं बताते हैं तो मैं इसके बारे में खुलासा करूंगा।

रिपोर्ट-न्यूज़ रिपोटर 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *