www.kewalsach.com | www.kewalsachtimes.com | www.ks3.org.in | www.shruticommunicationtrust.org
BREAKING NEWS

आतंकवादी तौसीफ के पास से जांच टीम को कोर्डवर्ड के कई पुर्जे मिले, कोडवर्ड्स के जरिये आतंकी वारदातों को देता था अंजाम…

बिहार के गया से गिरफ्तार दो संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया गया है जिसमें से एक अपराधी अहमदाबाद बम ब्लास्ट का आरोपी है तो दूसरा अलकायदा से संबंध रखने वाला। हलांकि गिरफ्तार आतंकियों से जहां एक तरफ पुलिस अधिकारियों की पूछ ताछ चल रही है तो दूसरी तरफ एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जिससे पुलिस की कानून व्यवस्था पर ही सवाल उठने लगे हैं। ये तस्वीरें थाने की बताई जा रही है जिसे देख कर लोग यही पूछ रहे हैं कि थाने में कैद आतंकियों के हाथों में मोबाइल कहां से आया और मोबाइल के जरिए वह किससे बात करने की कोशिश कर रहा है ? आप को बताते चलें कि इन दोनों आतंकियों को बुधवार को गया पुलिस के द्वारा गुप्त सूचना के आधार पर सिविल लाइन थानाक्षेत्र के राजेन्द्र आश्रम के पास से एक साइबर कैफे से 

गिरफ्तार किया था जहां यह दोनों काफी दिनों से आते थे और घंटों रहकर किसी से बात करते थे।इस मामले का खुलासा उस वक्त हुआ जब साइबर कैफे संचाक के फेसबुक पर आतंकियों का दिल्ली पुलिस के द्वारा जारी किए गए पांच स्कैच आए जिसमें कैफ़े में आनेवाले एक युवक का चेहरा मिल रहा था।फिर क्या था कैसे संचालक ने इस बात की जानकारी नजदीकी थाने को दी और मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।गिरफ्तारी के बाद पूछताछ के दौरान यह पता चला कि वह अहमदाबाद में वर्ष 2008 में हुए बम ब्लास्ट का आरोपी हैफिलहाल इस मामले में स्पेशल ब्रांच, सीआईडी व आईबी के अधिकारियों द्वारा पूछताछ की जा रही है।अब हम आपको बताने जा रहे हैं बिहार पुलिस कि वह लचर कानून व्यवस्था के बारे में जिससे अपराधी पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लगाने की कोशिश करते हैं।दरअसल गिरफ्तार हुए आतंकियों की गतिविधियों पर पुलिस की खास नजर होती है लेकिन यहां गिरफ्तार आतंकी खुलेआम थाने में मोबाइल से बात करते नजर आए।इससे पहले भी कई बार अपराधियों को हाथों में हथकड़ी लगाए मोबाइल पर बात करते हुए तस्वीर सामने आई थी। हलांकि इस मामले में पुलिस के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी हुई पर अब आतंकियों के मोबाइल पर बात करने की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो चुकी है और इसको लेकर तरह-तरह के कमेंट्स किए जा रहे हैं।आपको बताते चले की आतंकवादी तौसीफ कोडवर्ड के जरिये अपनी आतंकी रणनीति को अंजाम देता था।चार दिनों के रिमांड पर लिये गये तौसीफ से पूछताछ के दौरान जांच एजेंसियों को अहम सुराग और जानकारियां मिली हैं।अहमदाबाद विस्फोट के आरोपी तौसीफ से बिहार पुलिस, गुजरात एटीएस, एनआईए के अधिकारी लगातार पूछताछ कर रहे हैं।पुलिस रिमांड में रहे आतंकी तौसीफ ने पूछताछ के दौरान अहम राज खोले हैं।पुलिस को तौसीफ से मिली जानकारियों के बाद कई और लोगों की भी गिरफ्तारी संभव है। तौसीफ के खिलाफ गया के सिविल लाइन थाना में मामला दर्ज है।पुलिस और पूछताछ कर रही एटीएस को जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक वो कोर्डवर्ड्स के जरिये अपनी रणनीति बनाता था और उन्हें जरूरत के हिसाब से अंजाम देता था।तौसीफ के पास से जांच टीम को कोर्डवर्ड के कई पुर्जे मिले हैं।ATS की टीम तौसीफ के पास से मिले कोर्डवर्ड को सुलझाने का प्रयास कर रही है।मालूम हो कि गया से गिरफ्तार तौसीफ और उसके दो सहयोगियों को पुलिस ने चार दिनों की रिमांड पर ले रखा है।

रिपोर्ट-न्यूज़ रिपोटर 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *